उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
पियूष गोयल बोले, किसानों को ₹6,000 रुपये प्रतिवर्ष देना किसान का सम्मान
पियूष गोयल बोले, किसानों को ₹6,000 रुपये प्रतिवर्ष देना किसान का सम्मान|Twitter
देश

पियूष गोयल बोले, किसानों को ₹6,000 रुपये प्रतिवर्ष देना किसान का सम्मान है

पियूष गोयल ने कहा अगले एक डेढ वर्ष में 2 लाख 20 हजार नौकरियां और देने की घोषणा रेलवे ने की है, जिसमें SC/ST/OBC के आरक्षण को बरकरार रखते हुए गरीबों को 10% आरक्षण दिया जायेगा।

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

नई दिल्ली: बीजेपी नेता और केंद्रीय वित्तमंत्री पीयूष गोयल ने आज अंतरिम बजट 2019-20 पेश किया है। इस बजट में उन्होंने कई घोषणाओं का ऐलान भी किया है। बजट के बाद केंद्रीय वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि 2014 से केंद्र द्वारा काले धन के विरुद्ध की गई कार्रवाई के फलस्वरूप 1,30,000 करोड़ रुपये की आय कर के दायरे में आई है। अर्थव्यवस्था से कालाधन हटाने की मोदी सरकार की प्रतिबद्धता जताते हुए, उन्होंने कहा कि काला धन (अघोषित विदेशी आय और संपत्ति) और कराधान अधिनियम, 2015 और भगोड़ा आर्थिक अपराधी अधिनियम, 2018 और नोटबंदी के निर्णय लिए गए, जिसके नतीजे दिखने लगे हैं।

वित्तमंत्री ने कहा कि अर्थव्यवस्था के फॉर्मलाइजेशन का लाभ जनता को ही मिलेगा, हमारी अर्थव्यवस्था विश्व की सबसे तेज गति से बढने वाली अर्थ्व्यवस्था हो गयी है, आज जॉब का स्वरूप अब बदल गया है। उन्होंने कहा कि, भारत में हाईवे तेज गति से बन रहे हैं, रेलवे में तेज गति से विकास हो रहा है, यह बिना आदमियों को नौकरी पर रखे नही हो सकता। डेढ लाख नौकरियों की प्रक्रिया जारी है, अगले एक डेढ वर्ष में 2 लाख 20 हजार नौकरियां और देने की घोषणा रेलवे ने की है, जिसमें SC/ST/OBC के आरक्षण को बरकरार रखते हुए गरीबों को 10% आरक्षण दिया जायेगा।

किसानों की बात करते हुए वित्त मंत्री ने कहा कि, किसानों को ₹6,000 रुपये प्रतिवर्ष देना किसान का सम्मान है, जिसने देश को खाद्यान्न में आत्मनिर्भर बनाया। उन्होंने कहा हर मापदंड पर यह सरकार खरी उतरी है, महंगाई 10% थी, आज 4.5% पर है, यदि महंगाई कांग्रेस के जमाने जैसी रहती तो घर का बजट 35-40% बढ गया होता, पुराने हिसाब से योजनाये क्रियान्वित होती तो 100 मे से 85 रुपये बिचौलिये पर चले जाते।

बिजली और स्वास्थ सेवा की बात करते हुए वित्त मंत्री ने कहा कि, हमने जब शौचालय बनवाये तब कोई इलेक्शन नही था, जब गांव गांव हर घर तक बिजली दी, तब कोई इलेक्शन नही था, जब 6 करोड़ लोगों तक कुकिंग गैस पहुंचाई तब कोई इलेक्शन नही था, यह विकास का लाभ पहुंचाने का काम है।

GST और नोटबंदी पर बोलते हुए वित्त मंत्री ने कहा कि, अगर हम GST नही लाते तो आज भी रास्तों में ट्रकों की लाइन खड़ी होती, और भ्रष्टाचार हो रहा होता। GST एक सफल प्रयोग है, विश्व में कोई देश नही है जिसने इतना बड़ा दबलाव करने का साहस किया हो। उन्होंने कहा कि काला धन (अघोषित विदेशी आय और संपत्ति) और कराधान अधिनियम, 2015 और भगोड़ा आर्थिक अपराधी अधिनियम, 2018 और नोटबंदी के निर्णय लिए गए, जिसके नतीजे दिखने लगे हैं।"बीते साढ़े चार वर्ष में सरकार द्वारा उठाए गए कदम से करीब 50,000 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त की गई।"

गोयल ने कहा, "इस दौरान, 6900 करोड़ रुपये की बेनामी संपत्ति और 16,00 करोड़ रुपये की विदेशी संपत्ति भी जब्त की गई।" उन्होंने कहा, "इसके अलावा 3,38,000 फर्जी कंपनियों की पहचान की गई और उन्हें गैर-पंजीकृत किया गया और इन कंपनियों के निदेशकों को अयोग्य ठहराया गया।" इसके अलावा, गोयल ने कहा कि 2017-18 में प्रत्यक्ष कर में 18 प्रतिशत की वृद्धि हुई और कर आधार में 1.06 करोड़ का विस्तार हुआ, जिसमें वित्तीय वर्ष 2017-18 के दौरान एक करोड़ से ज्यादा टैक्स रिटर्न दाखिल किए गए।