Uday Bulletin
www.udaybulletin.com
मुकेश अंबानी फॉरेन पॉलिसी की शीर्ष ‘100 वैश्विक चिंतक’
मुकेश अंबानी फॉरेन पॉलिसी की शीर्ष ‘100 वैश्विक चिंतक’
देश

जियो की सफलता के बाद गूगल और फेसबुक से प्रतिस्पर्धा करने की तैयारी में अंबानी, क्या है योजना 

अंबानी (Mukesh Ambani) को दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र में स्मार्टफोन इंटरनेट क्रांति में तेजी लाने का श्रेय दिया जाता है।

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

मुंबई: फॉरेन पॉलिसी (Foreign Policy) पत्रिका ने रिलायंस इंडस्ट्रीज के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) को 'शीर्ष 100 वैश्विक चिंतक' (Top 100 Global Thinkers) की 2019 की वार्षिक सूची में शामिल किया है।

फॉरेन पॉलिसी (Foreign Policy) पत्रिका के अनुसार, 2018 में एशिया के सबसे अमीर आदमी के रूप में जैक मा को विस्थापित करने वाले अंबानी (Mukesh Ambani) को दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र में स्मार्टफोन इंटरनेट क्रांति में तेजी लाने का श्रेय दिया जाता है।

पत्रिका ने अपनी वेबसाइट पर कहा, "44.3 अरब डॉलर की संपत्ति के साथ मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) 2018 में जैक मा को पछाड़कर एशिया के सबसे अमीर आदमी बन गए थे। अंबानी की कमाई तेल, गैस और खुदरा क्षेत्रों में उनके कारोबार से होती है, लेकिन अपनी नई दूरसंचार कंपनी जियो (Jiyo) के माध्यम से वे भारत पर सबसे बड़ा प्रभाव डालने जा रहे हैं।"

वेबसाइट पर आगे कहा गया, "जियो (Jiyo) के लांच के बाद पहले छह महीनों के लिए सेलुलर डेटा और वॉयस मुफ्त देकर अंबानी (Mukesh Ambani) दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र में 10 करोड़ से ज्यादा लोगों को स्मार्टफोन इंटरनेट क्रांति से जोड़ चुके हैं।

अंबानी की योजना का अगला चरण डिजिटल हवाई तरंगों का उपयोग करते हुए कंटेट और लाइफस्टाइल उत्पाद बेचना है और आखिरकार गूगल और फेसबुक से प्रतिस्पर्धा करना है।"

इस सूची में शामिल अन्य प्रमुख हस्तियों में अलीबाबा के सह-संस्थापक और कार्यकारी अध्यक्ष जैक मा, अंतर्राष्ट्रीय मुद्राकोष के प्रबंध निदेशक क्रिस्टीन लेगार्ड, यूरोपीय प्रतिस्पर्धा आयुक्त मार्ग्रेथ वेस्टेगर और लेखक और टीवी होस्ट फरीद जकारिया शामिल हैं।

--आईएएनएस