Uday Bulletin
www.udaybulletin.com
Bulandshahr Violence Case; योगेश राज पुलिस की गिरफ्त में
Bulandshahr Violence Case; योगेश राज पुलिस की गिरफ्त में|Twitter
देश

Bulandshahr Violence Case: मुख्य आरोपी योगेश राज पुलिस की गिरफ्त में, 30 दिनों से पुलिस कर रही थी तलाश

उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में हुई हिंसा के मुख्य आरोपी योगेश राज को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। हालांकि एक माह पूरे होने के बाद भी 12 नामजद अब भी पुलिस की पकड़ से दूर हैं।

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

उत्तर प्रदेश: उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर जिले में कथित गोकशी की घटना को लेकर फैले विवाद के बीच भड़की हिंसा का आरोपी और बजरंग दल का जिला संयोजक योगेश राज गिरफ्तार कर लिए गया है। हिंसा की घटना के करीब एक महीने बाद वह पुलिस योगेश राज को पकड़ने में कामयाब रही है। आपको बता दें पिछले साल 3 दिसंबर को भीड़ द्वारा फैली इस हिंसा की घटना में उत्तर प्रदेश पुलिस इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की हत्या कर दी गई थी। योगेश राज पर हिंसक भीड़ को भड़काने का आरोप है।

पुलिस ने बीती रात बुधवार को योगेश राज को गिरफ्तार कर लिया है। ज्ञात हो कि योगेश राज बजरंग दल का जिला संयोजक है। हालांकि, पुलिस ने योगेश की गिरफ्तारी का खुलासा आधिकारिक तौर पर नहीं किया था। हालांकि गिरफ्तारी के 7 घंटे बाद पुलिस ने इसकी आधिकारिक सुचना दी है।

उत्तर प्रदेश एसएसपी पी चौधरी ने कहा कि 'खुफिया जानकारी से इनपुट जुटाए जा रहे थे। उसे हमारे पास मौजूद सभी सूचनाओं के आधार पर गिरफ्तार किया गया है। पूछताछ चल रही है। उसके बयान दर्ज किए जा रहे हैं, इसे अदालत के समक्ष पेश किया जाएगा।'

आपको बता दें कि, पुलिस ने पिछले 30 दिनों से फरार चल रहे योगेश राज की गिरफ्तारी बुलंदशहर के खुर्जा से की है। पुलिस को बजरंग दल के नेताओं ने ही सौंपा है। पुलिस आज उसे कोर्ट में पेश करेगी। उस पर हिंसा भड़काने का आरोप है और पुलिस ने उसे ही मुख्य आरोपी बनाया है। योगेश राज ने ही गो हत्या मामले में झूठी एफआईआर दर्ज करवाई थी।

क्या था मामला

बुलंदशहर के स्याना इलाके में कथित रूप से गोवंश के अवशेष मिलने के बाद हिंसा फैल गई थी। खेत में गोवंश के अवशेष मिलने के बाद इसकी सुचना पुलिस को दी गई थी। पुलिस जब मौके पर पहुंची तो वह भीड़ पहले से ही मौजूद थी। पुलिस निरीक्षक सुबोध कुमार सिंह भीड़ को समझने की कोशिश कर रहे थे। तभी उग्र भीड़ ने उन्हें अपनी आक्रोश का शिकार बना लिया। हिंसक भीड़ ने सुबोध सिंह की हत्या कर दी। ऐसी घटना में सुमित नाम के एक स्थानीय युवक की भी मौत हो गई थी।