उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
सुप्रीम कोर्ट
सुप्रीम कोर्ट |IANS
देश

CBI घूसकांड: सीवीसी ने सर्वोच्च न्यायालय में आलोक वर्मा पर रिपोर्ट दाखिल की

26 अक्टूबर को हुई सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने (CVC) केंद्रीय सतर्कता आयोग को दो हफ्ते में आलोक वर्मा पर लगे आरोपों की जांच कर रिपोर्ट दाखिल करने को कहा था। 

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

नई दिल्ली | केंद्रीय सतर्कता आयोग (सीवीसी) ने सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा के खिलाफ उनके उप व विशेष निदेशक राकेश अस्थाना द्वारा लगाए गए आरोपों की प्रारंभिक जांच की रिपोर्ट सोमवार को सर्वोच्च न्यायालय में जमा कर दी। CVC ने सुप्रीम कोर्ट के समक्ष दो रिपोर्ट पेश की है , जिसमें पहली रिपोर्ट सीबीआई चीफ आलोक वर्मा पर की गई जांच को सीवीसी ने सौंपी है और दूसरी रिपोर्ट सीबीआई के कार्यकारी चीफ एम नागेश्वर राव द्वारा अफसरों के ट्रांसफर और लिए गए फैसलों की है जिसे सॉलीसीटर जनरल तुषार मेहता ने सौंपी है।

प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई व न्यायमूर्ति श्याम किशन कौल की पीठ के समक्ष एक अन्य रिपोर्ट भी प्रस्तुत की गई। यह रिपोर्ट वर्मा के स्थान पर कार्यभार संभाल रहे कार्यवाहक सीबीआई निदेशक एम.नागेश्वर राव द्वारा लिए गए फैसलों पर जमा की गई है।

हालांकि इस पूरी सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट CVC से नाराज दिखा और कहा कि अगर रिपोर्ट दाखिल नहीं कर पा रहे थे तो कम से कम सूचना तो देनी चाहिए थी। खंडपीठ ने मामले की अगली सुनवाई 16 नवंबर को करने का निर्देश दिया है।

साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने यह भी साफा कर दिया कि "आदेश में निहित है कि इस दौरान नए नियुक्त सीबीआई में कोई महत्वपूर्ण निर्णय न लिया जाए और अगर आदेश का उल्लंघन किया गया तो हम देखेंगे"।

26 अक्टूबर को पिछली सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट ने केंद्रीय सतर्कता आयोग (CVC) को दो हफ्ते में आलोक वर्मा पर लगे आरोपों की जांच पूरी कर सील कवर में रिपोर्ट दाखिल करने को कहा था। साथ ही सुप्रीम कोर्ट के रिटायर जज जस्टिस एके पटनायक को जांच की निगरानी का जिम्मा सौंपा था।

सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार जांच में सीवीसी को आलोक वर्मा के खिलाफ कोई पुख्ता जानकारी नहीं मिल पाई है कि उन्होंने सना से दो करोड़ रुपये घूस ली थी। ये शिकायत राकेश अस्थाना ने अगस्त में सीवीसी से की थी। आलोक वर्मा ने सरकार के छुट्टी भेजे जाने के फैसले को चुनौती देने के साथ ही सीवीसी की सिफारिश, कार्मिक विभाग के आदेश और एम नागेश्वर राव को अतंरिम डायरेक्टर बनाने के फैसलों को रद्द करने की मांग की है।