बाँदा में भरभराकर गिरी बेहद पुरानी बिल्डिंग, कार और बाइक हुई चकनाचूर

यह बिल्डिंग लगभग 150 साल पुरानी थी
बाँदा में भरभराकर गिरी बेहद पुरानी बिल्डिंग, कार और बाइक हुई चकनाचूर
बाँदा में भरभराकर गिरी बेहद पुरानी बिल्डिंगUday Bulletin

बाँदा की बेहद प्रशिद्ध बोडेराम हलवाई की दुकान के पास स्थित एक बेहद पुरानी और जर्जर बिल्डिंग अचानक भरभरा कर गिर गयी, हालाँकि बचत यह रही कि हादसे में किसी जान की हानि नही हुई लेकिन इस हादसे में एक कार और बाइक मलबे में दब गई।

भरभराकर गिरी हवेलीनुमा बिल्डिंग:

बाँदा शहर के कटरा मुहल्ले स्थित बोडेराम हलवाई के पास बनी बेहद पुरानी हवेलीनुमा बिल्डिंग शनिवार की शाम अचानक भरभराकर गिर पड़ी, ज्ञात हो कि यह बिल्डिंग बेहद पुरानी है और करीब 150 साल से भी ज्यादा पुरानी होने की वजह से लोगों ने पहले भी बरसात में गिरने की आशंका जताई गई लेकिन यह बिल्डिंग बरसात में न गिरकर बीती शाम गिर पड़ी, गनीमत यह रही कि मलबे के गिरने की वजह से मौके पर उपस्थित लोग आवाज को सुनकर जगह से भाग गए लेकिन घटनास्थल पर एक कार और एक मोटरसाइकिल खड़ी रही, मलबे में गाड़िया दबकर चकनाचूर हो गयी।

बिना मरम्मत खड़ी थी हवेली:

अगर जानकारों की माने तो यह भवन करीब 150 सालो से बिना किसी सही रखरखाव के ऐसे ही खड़ा था, यहाँ आपको बताते चले कि यह इलाका शहर के बेहद पुराने इलाके में आता है जहाँ पर बाँदा की प्रसिद्ध मिठाई की दुकान बोडेराम हलवाई एंड सन्स उपलब्ध है, लोगों ने उदय बुलेटिन को बताया कि बिना किसी रखरखाव के यह बिल्डिंग बेहद जर्जर हो चुकी थी और इसका गिरना भी तय था, लेकिन ऐसे वक्त पर गिरेगी किसी ने सोचा नही था।

नगर पालिका और शहर आवास प्राधिकरण मौन:

अगर निकाय के प्राधिकरणों और विभागों की नजर से देखे तो शहर में किसी भी बिल्डिंग को उचित रखरखाव में होना चाहिए ,लेकिन इसके बावजूद भी शहर के बीचो बीच ऐसे तमाम मकान खड़े है जो अपनी आखिरी सांसें गिन रहे है लेकिन न तो नगर पालिका इस पर अपनी नजर कर पा रहा है और न ही शहर में बाँदा आवास प्राधिकरण, बल्कि दोनो निकाय नए बन रहे मकानों से नक्शे के नाम पर उगाही करने में व्यस्त है।

लोगों ने जिला प्रशासन ने गुहार लगायी है कि ऐसे भवनों को चिन्हित करने का तो उनका रखरखाव कराया जाए अथवा उन्हें सही तरीके से निदान कराया जाए।

⚡️ उदय बुलेटिन को गूगल न्यूज़, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें। आपको यह न्यूज़ कैसी लगी कमेंट बॉक्स में अपनी राय दें।

Related Stories

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com