Singrauli Train Accident
Singrauli Train Accident|Google
म.प्र. बुलेटिन

लापरवाही की वजह से दो मालगाड़ी आपस मे टकराई। 

टक्कर इतनी भयानक थी कि दोनों गाड़ियों के इंजन के परखच्चे उड़ गए, और शाम तक भी इंजन में फसे हुए लोको पायलटों को निकाला नहीं जा सका, मामला मध्यप्रदेश के सिंगरौली से जुड़ा हुआ है। 

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

मध्य प्रदेश के सिंगरौली जिले में एनटीपीसी की दो मालगाड़ियां आमने-सामने से टकरा गई, जिसके चलते दोनों गाड़ियों की बोगियां बुरी तरह क्षतिग्रस्त हुई है।

एक ही ट्रैक पर आमने-सामने आई दो ट्रेनें :

मध्यप्रदेश के सिंगरौली जिले में रविवार की सुबह-सुबह एक दिल दहलाने वाली खबर आई, जानकारी के अनुसार विपरीत दिशाओं से आने वाली दो मालगाड़ियां आपस में टकरा गई। जानकारी हो कि सिंगरौली जिले के अंतर्गत आने वाले बैढन थाना क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले इलाके रिहंद नगर में एक मालगाड़ी कोयला लेकर एनटीपीसी प्लांट की ओर जा रही थी तभी दूसरे ओर से आती हुई खाली ट्रेन की भीषण टक्कर हो गयी। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार टक्कर इतनी भयानक थी कि इस टक्कर को बड़ी दूर से देखा और सुना जा सका।

तीन लोको पायलटों के फसे होने की आशंका :

रेलवे विभाग ने जानकारी दी कि दुर्घटना में एक मालगाड़ी का डिब्बा दूसरी गाड़ी के इंजन के ऊपर चढ़ गया जिसकी वजह गाड़ी के लोको पायलट बुरी तरह इंजन के अंदर ही फ़स गए और उनकी हालत के बारे में कोई समुचित जानकारी नहीं मिल पाई। विभाग ने जानकारी दी कि राशिद अहमद, राम लक्ष्मण वैश्य और मनदीप कुमार नाम के लोको पायलट इंजन के अंदर ही फॅसे हुए है।

परिचालन की है चूक :

जानकारों के मुताबिक इस दुर्घटना में सबसे बड़ी चूक परिचालन की समझ मे आती है। यहाँ आपको बताते चले कि इस ट्रैक का इस्तेमाल मुख्यतः एनटीपीसी को कोयला पहुँचाने में किया जाता है। इस प्रकार से यह इतना वयस्त ट्रैक भी नहीं है फिर भी एक ही समय पर एक ही ट्रैक पर दो गाड़ियों को कैसे दौड़ाया गया? विभाग के उच्चाधिकारियों ने बताया कि मामले की जांच के बाद दोषियों पर कार्यवाही की जाएगी।एनटीपीसी संयंत्र तक कोयला ले जाने के लिए सिंगल रेल लाइन है। एक समय में एक तरफ से ही गाड़ी को निकाला जाता है, मगर एक लाइन पर दोनों ओर से गाड़ियां आ गई जिसके चलते यह हादसा हुआ।

दुर्घटना में बचाव के लिए एनटीपीसी की सुरक्षा में लगी हुई केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल और स्थानीय पुलिस समेत एसडीएम समेत अन्य उच्चाधिकारियों ने राहत और बचाव कार्य को शुरू कर दिया है। राहत और बचाव कार्य मे एनटीपीसी की दो बड़ी बडी क्रेनों को लगाया गया है।

उदय बुलेटिन के साथ फेसबुक और ट्विटर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com