कमलनाथ के बिगड़े बोल, विरोधी प्रत्यासी इमरती देवी को कहा "आइटम"

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने खुले मंच से की एक महिला की बेइज्जती।
कमलनाथ के बिगड़े बोल, विरोधी प्रत्यासी इमरती देवी को कहा "आइटम"
kamal nath termed imarti devi an itemuday bulletin

सत्ता विचारों के विरोध का मंच है, लेकिन इसमें अगर भाषा विकृत हो जाये तो यह राजनीति को दूसरे रास्ते पर ले जाती है, यूँ तो कांग्रेस समेत अन्य दलों के नेताओं द्वारा महिलाओं को दोअर्थी शब्दों से लगातार संबोधित किया जाता है जिसको लेकर नेताओं की आलोचनाएं भी हुई, लेकिन नेता इतने ढीठ है कि बार-बार सुनने के बाद भी शब्दों का चयन नहीं करते, ताजा मामला पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ से जुड़ा हुआ है जहां पर कमलनाथ विरोधी महिला प्रत्याशी को "आइटम " कहते हुए नजर आए"

क्या दिग्विजय क्या कमलनाथ:

अब इसे संयोग कहा जाए या कांग्रेस पार्टी में महिलाओं को लेकर फैली मानसिकता कहा जाए बीते मामले में मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ डबरा क्षेत्र की रिजर्व सीट से कांग्रेस के प्रत्याशी सुरेश राजे के समर्थन में रैली करने आये थे लेकिन चुनाव प्रचार करने के चक्कर मे पूर्व मुख्यमंत्री महिला सम्मान की मर्यादा भूल गए, दरअसल कांग्रेस प्रत्याशी के सामने भाजपा ने पूर्व कांग्रेसी महिला नेता इमरती देवी को आइटम तक कह दिया, हालांकि कमलनाथ के बयान को सुनकर यह एक बार भी नहीं लगा कि यह कोई भूलवश बोला गया शब्द हो या इसके तुरंत बाद माफी मांगी गई हो।

आप उनका बयान ही सुन लीजिए:

भाजपा ने इसे आड़े हाँथ लिया, कांग्रेस बैकफुट पर पहुचीं:

हालांकि इस मामले के बाद मीडिया और भाजपा ने इसे बेहद तल्खी से लिया भाजपा से मध्यप्रदेश के वर्तमान मुख्यमंत्री शिवराज चौहान ने कांग्रेस के सामने तीखे सवाल दागे, मुख्यमंत्री ने कहा कि मैं किसी भी कीमत पर चंबल की बेटी का अपमान सहन नहीं करूँगा। इस मामले पर भाजपा की महिला नेता स्मृति ईरानी ने भी कमलनाथ की मानसिकता और कांग्रेस के नेतृत्व पर सवालिया निशान लगाया।

शिवराज सिंह ने कहा कि मैं खुद का अपमान तो सहन कर सकता हूँ, लेकिन किसी भी कीमत पर चंबल की बेटी के अपमान सहन नही किया जाएगा, यह अन्याय की हद है।

इमरती देवी ने कमलनाथ के बयान पर अपनी तीखी प्रतिक्रिया दर्ज कराई, इमरती देवी ने कहा कि कमलनाथ अपनी सत्ता जाने की वजह से बौखला गए है, उन्हें कुछ भी समझ मे नही आ रहा। वहीँ भाजपा ने इस मामले पर पूरे मध्यप्रदेश में मौन विरोध दर्ज कराया।

इस मामले पर कमलनाथ के बयानों की असंवेदनशीलता तब ज्यादा बढ़ गयी जब कमलनाथ ने अपने बयान पर माफी न मांग कर आइटम शब्द को सही करार दिया, हालांकि प्रदेश की जनता और महिला वर्ग इससे बेहद आहत नजर आ रहा है।

⚡️ उदय बुलेटिन को गूगल न्यूज़, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें। आपको यह न्यूज़ कैसी लगी कमेंट बॉक्स में अपनी राय दें।

Related Stories

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com