Jyotiraditya scindia Allegations on Congress 
Jyotiraditya scindia Allegations on Congress |Uday Bulletin
म.प्र. बुलेटिन

साहेब पार्टी बदलते ही बेरंग से रंगदार हो गए, कांग्रेस के विद्रोही और भाजपा के वफादार हो गए। 

ज्योतिरादित्य ने भाजपा ज्वाइन करते ही कांग्रेस पर आरोपों की झड़ी लगा दी। 

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

मध्यप्रदेश कांग्रेस के युवा नेता और सिंधिया खानदान के चश्मों चराग ने कांग्रेस का पंजा और कमलनाथ को छोड़कर जैसे ही कमल को थामा ज्योतिरादित्य कांग्रेस की नीतियों पर आरोप लगाने से नहीं चूके। ज्योतिरादित्य ने भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा की मौजूदगी में जैसे ही पार्टी की सदस्यता ग्रहण की वैसे ही सुर बदल दिए। शपथ ग्रहण के छोटे कार्यक्रम में सिंधिया ने कांग्रेस पर गंभीर आरोप लगाए।

आरोप :

किसानों की कर्जमाफी सिर्फ नाटक तक सीमित रहा :

10 मिनट के छोटे से भाषण में ज्योतिरादित्य ने मीडिया कर्मियों को बताया कि कांग्रेस की नीतियां किसान विरोधी हो चली थी, सिंधिया ने बताया कि जब हमने कांग्रेस की सरकार के लिए प्रदेश में मेहनत की तब हमने किसानों को कर्जमाफी का वायदा किया था जिसकी समय सीमा मात्र 10 दिन थी। लेकिन सरकार के 18 महीने गुजर जाने के बाद भी सरकार प्रदेश की जनता और किसानों की उम्मीदों पर खरी नहीं उतर पायी।

किसानों और युवाओं की हालत खराब :

ज्योतिरादित्य ने कांग्रेस पर आरोप लगाया कि कमलनाथ सरकार किसानों और युवाओं के लिए किसी भी प्रकार का काम नहीं कर पाई। प्रदेश में बेरोजगारी अपने चरम स्तर पर है, जिसके लिए सरकार ने कोई सार्थक कदम नहीं उठाया।

मध्य प्रदेश में माफियाराज :

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कमलनाथ सरकार पर आरोप लगाया कि सरकार बनने के बाद ही प्रदेश में खनन माफिया जैसे तत्व सरकार की शह पर काबिज हो गए जिससे सरकार को राजस्व की हानि होना शुरू हो गया और आम जन में ख़ौफ़ बैठाना शुरू हो गया।

रिश्वतखोरी चरम पर :

ज्योतिरादित्य ने मध्यप्रदेश सरकार पर आरोप लगाया कि इन दिनों घूसखोरी अपनी चरम अवस्था मे है, जहाँ आम आदमी से लेकर ईमानदार अधिकारियों को इससे दो चार होना पड़ रहा है, और यही कारण है कि मध्यप्रदेश में अधिकारियों के ट्रांसफर और पोस्टिंग केवल रिश्वतखोरी से ही सम्भव है।

पीड़ितों का मुआवजा छीन लिया गया:

ज्योतिरादित्य ने मंदसौर में हुए गोलीकांड और ओलावृष्टि के पीड़ितों के मिलने वाले मुआवजे पर सवाल उठाए, उन्होंने कहा कि इसमें बहुत बड़ा घालमेल किया जा रहा है। इन सभी समस्याओं की वजह से मेरी निजी क्षति हो रही थी।

घोषणापत्र केवल कोरा कागज था :

ज्योतिरादित्य के अनुसार कांग्रेस का घोषणा पत्र केवल एक कागज के टुकड़े तक सीमित रहा क्योंकि किये गए किसी वायदे पर ठीक तरीके से अमल नहीं लाया गया। बल्कि यह घोषणा पत्र लोगों से छलावे तक ही सीमित रहा।

कांग्रेस हकीकत से मुँह चुराती रही है:

ज्योतिरादित्य ने साफ -साफ शब्दों में बताया कि कांग्रेस अपनी पार्टी के अंदरूनी हालातों से रूबरू नहीं हो पा रही। जमीनी हालात यह है कि कांग्रेस अपनी स्थिति से मुँह चुरा रही है वह किसी भी स्थिति में आत्ममंथन नहीं कर सकती।

युवा नेतृत्व को कोई जगह नहीं :

ज्योतिरादित्य ने साफ-साफ शब्दों में कहा कि कांग्रेस में युवा नेतृत्व को कोई जगह नहीं है बल्कि सिर्फ उसका दोहन होता आया है शायद यही कारण है कि युवा नेताओं का कांग्रेस से मोहभंग होता चला जा रहा है।

उदय बुलेटिन के साथ फेसबुक और ट्विटर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com