मप्र के छतरपुर में हालात बद से बदतर, भारी पड़ सकती है असावधानी

मामला मध्यप्रदेश के जिले छतरपुर से जुड़ा हुआ है जहां कोरोना को लेकर भारी अनियमितताएं बरती जा रही हैं
मप्र के छतरपुर में हालात बद से बदतर, भारी पड़ सकती है असावधानी
MP Chhatarpur coronavirus UpdateSocial Media

अगर सरकारी आंकड़ों की माने तो इन दिनों मध्यप्रदेश के जिले छतरपुर में कोरोना लगातार अपने पांव पसार रहा है। बीते दस दिनों में प्रशासन ने करीब 1469 कोविड टेस्ट कराए है लेकिन अब इसे जांच की धीमी रफ्तार कहें या उदासीनता अभी तक केवल 603 जांच ही सफल हो पाई है। इन जांचों में अभी तक 24 लोग कोविड पाजिटिव पाए गए हैं जिनका आइसोलेशन वार्ड में रखकर इलाज किया जा रहा है।

गंदगी को लेकर है तमाम शिकायतें:

अस्पताल में भर्ती कोरोना संक्रमित मरीज़ों ने प्रशासन पर आइसोलेशन वार्ड में मौजूद गंदगी को लेकर तमाम आरोप लगाए हैं। भर्ती मरीज़ों ने अस्पताल और वार्ड के अंदर की फोटोज सोशल मीडिया में वायरल करके प्रशासन की पोल खोल दी है। लोगों ने आरोप लगाए की वार्डो में खाने के बाद पत्तलों को निस्तारित करने के लिए कोई व्यवस्था उपलब्ध नहीँ है और शौचालय में गंदगी का अंबार है, न ही वार्ड में कोई स्वीपर उपलब्ध है न ही डाक्टर इलाज करने के लिए मौके पर आ रहे हैं। लोगो ने बताया कि शौचालय में बाल्टी तक उपलब्ध नहीँ है।

जिलाधिकारी का दावा ही अलग है:

अगर छतरपुर के जिलाधिकारी महोदय की बात माने तो उनकी अलग ही कहानी है उनके अनुसार तो एक दिन में 800 मरीज तक आये तो भी मामले को संभाल सकते है हालांकि यह दावा किस बिनाह पर किया गया है ये यक्ष प्रश्न साबित होगा। अगर अस्पतालों की बात करें तो जिले में आईसीयू वार्ड की बेहद कमी है जिनके निर्माण का दावा तो किया जा रहा है लेकिन अभी उनके निर्माण को पूरा होने में खासा वक्त लगेगा। वहीँ अगर ऑक्सीजन की बात की जाए तो अस्पताल के इस मामले को लेकर हाँथ तंग है।

⚡️ उदय बुलेटिन को गूगल न्यूज़, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें। आपको यह न्यूज़ कैसी लगी कमेंट बॉक्स में अपनी राय दें।

No stories found.
उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com