Open Book Exam in MP
Open Book Exam in MP|Uday Bulletin
म.प्र. बुलेटिन

मध्यप्रदेश के छात्रों के लिए खुशखबरी, अब घर पर ही रहकर परीक्षा दे सकते हैं।

अंतिम वर्ष और फाइनल सेमेस्टर के छात्र अब घर पर रहकर ही परीक्षा दे सकेंगे, इस तरह की परीक्षा को ओपन बुक प्रणाली कहा जाता है।

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

मध्यप्रदेश उच्च शिक्षा विभाग ने कोरोना महामारी की भयावहता को देखते हुए उच्च शिक्षा प्राप्त करने वाले छात्रों के लिए एक राहत की खबर सुनाई है जिसके तहत अब अंतिम वर्ष (त्रिवर्षीय पाठ्यक्रम)और तकनीकि तथा मेडिकल क्षेत्र के छात्र (अंतिम सेमेस्टर) के विद्यार्थियों के लिए घर से एग्जाम देने का प्रावधान रखा गया है। मध्यप्रदेश शिक्षा विभाग ने इस प्रणाली को ओपन बुक परीक्षा के नाम से जारी किया है। दरअसल कोरोना महामारी के चलते यह अंदेशा था कि परीक्षा स्थलों पर संक्रमण की वजह से स्थितियां खराब हो सकती थी इसलिए इस संक्रमण से बचाव के लिए इस तरह की परीक्षा का निर्देश जारी किया गया है।

वेबसाइट पर मिलेगा प्रश्न पत्र:

सरकार ने तकनीकी के मेल से यह व्यवस्था की है कि छात्र को वेबसाइट पर ही उनके निर्धारित लॉगिन आईडी और पासवर्ड की मदद से प्रश्नपत्र को एक्सेस किया जा सकेगा और छात्र घर पर ही बैठकर प्रश्नपत्र को हल कर सकेंगे। हल करने के उपरांत छात्र अपनी उत्तर पुस्तिका को नजदीकी पुस्तिका संग्रहण केंद्र में जमा करा सकते है अथवा उत्तर पुस्तिका को मेल या डाक से भी भेजने का प्रावधान है। साथ ही उत्तर पुस्तिका कलेक्शन के लिए नजदीकी हायर सेकेंडरी स्कूल, हाईस्कूल इत्यादि में व्यवस्था की गई है। यहां पर सरकार और शिक्षा विभाग ने यह भी व्यवस्था की है कि अगर कोई परीक्षा या प्रश्नपत्र देने से छूट जाता है या किसी कारणवश परीक्षा से वंचित रह जाता है तो उसे बार दोबारा परीक्षा में सम्मिलित होने का अवसर दिया जाएगा।

प्रथम और द्वितीय वर्ष के छात्रों को मिल चुका है प्रमोशन:

इससे पहले मध्यप्रदेश सरकार द्वारा पहले और दूसरे वर्ष के छात्रों के लिए पूर्व में दी गयी परीक्षा को आधार बनाकर प्रोमोशन दिया गया है जिसके तहत वह अगली क्लास के लिए अधिकारी माने जाएंगे।

हालाँकि ओपन बुक एग्जाम के सिस्टम को लेकर छात्रों का एक बड़ा वर्ग नाखुश नजर आ रहा है खासकर वो छात्र जिन्होंने लंबे वक्त से एग्जाम के लिए तैयारी कर रखी थी उनके लिए यह चिंता का विषय है जिसमे उन्हें अन्य छात्रों के बराबर ही नंबर मिलने की उम्मीद है।

उदय बुलेटिन के साथ फेसबुक और ट्विटर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com