उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
Chetan Bajad
Chetan Bajad|Social Media
म.प्र. बुलेटिन

मध्य प्रदेश: जिस कोर्ट में ड्राइवर हैं पिता, उसी में जज बना बेटा 

जहां दादा रहे चौकीदार, वहां पिता बने ड्राइवर, अब वहीं जज बनकर लौटा चेतन 

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

कहते हैं प्रतिभा किसी की मोहताज नहीं होती, कब राजा, रंक बन जाए और रंक, राजा कुछ कहा नहीं जा सकता और यही बात आज एक बार फिर साबित हो गई। मध्य प्रदेश में सिविल जज परीक्षा का रिजल्ट आ चुका है। इस परीक्षा में पूरे देश भर के लोगों ने हिस्सा लिया था, सब की तरह मध्य प्रदेश के मिनी मुंबई कहे जान वाले इंदौर शहर में रहने वाले चेतन बजाड़ भी शामिल थे। खास बात है कि चेतन बजाड़ के पिता इंदौर के जिला अदालत में ही ड्राइवर हैं और उनके दादा इसी अदालत में चौकीदार रहे हैं, अपने दादा और पिता की तरह चेतन भी इंदौर जिला अदालत में काम करना चाहते थे, लेकिन क्या काम ? इस सवाल का जवाब तलाशते हुए चेतन, मध्य प्रदेश सिविल जज की परीक्षा में शामिल हो गए और कामयाबी भी हासिल की। चेतन अब उसी अदालत में जज बन गए हैं जहां उनके पिता गोवर्धनलाल ड्राइवर हैं।

अपनी इस कामयाबी के बारे में बात करते हुए चेतन बजाड़ कहते हैं कि "मैं हमेशा जज बनने का सपना देखा करता था, मेरे पिता और मेरे दादा के काम को देखते हुए मैं बड़ा हुआ था, इससे मुझे यह लक्ष्य निर्धारित करने में मदद मिली। मैं अपना कर्तव्य पूरी ईमानदारी से निभाऊंगा। मैं न्याय देने और समाज में एक मिसाल कायम करने की पूरी कोशिश करूंगा।"

हासिल की उपलब्धि

मध्य प्रदेश सिविल जज भर्ती आयोग द्वारा जारी परिणाम के मुताबिक 'चेतन बजाड़ ने अन्य पिछड़ा वर्ग (OBC) में 13 वां स्थान हासिल किया है। उन्हें लिखित और इंटरव्यू की परीक्षा में कुल 450 अंकों में से 257.5 अंक हासिल हुए है। जबलपुर की अस्थायी मेरिट लिस्ट चेतन का नाम टॉप पर है।

बेटे के जज बनने से खुश हैं पिता

चेतन के पिता कहते हैं कि 'मेरा हमेशा से सपना था कि मेरे तीन बेटों में से कोई एक भी जज बने, आख़िरकार अब वो सपना पूरा हो गया है। मेरे बेटे ने लॉ में ही स्नातक की पढाई की अब उसने चौथे प्रयास में सिविल जज की परीक्षा पास कर ली है। मैं अपनी खुशी बता नहीं सकता। चेतन ने मेरे साथ-साथ अपने दादा जी का सपना पूरा किया।