उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
Kamalnath Meet Mukesh Ambani
Kamalnath Meet Mukesh Ambani|Social Media
म.प्र. बुलेटिन

मध्य प्रदेश को विकास की राह पर ले जाने के लिए मुंबई पहुंचे कमलनाथ, अंबानी से की मुलाकात 

अब मध्य प्रदेश को अंबानी का सहारा ! 

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

मध्य प्रदेश में कमलनाथ सरकार के रूप में कांग्रेस की 2 दशक बाद वापसी हुई है। इसलिए कांग्रेस हर कदम फूंक-फूंक कर रख रही हैं और सत्ता की चाभी अपनी से जेब गवाना नहीं चाहती। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमल नाथ राज्य में औद्योगिक विकास लाना चाहते हैं, और निवेश की इन्हीं संभावनाओं की तलाश में वो मुंबई के दौरे पर हैं। जहां उनकी मुलाकात मुंबई कांग्रेस के नेता मिलिंद देवड़ा, रिलायंस इंडस्ट्रीज के मालिक मुकेश अंबानी सहित कई निवेशकों से हुई। इस बैठक के बाद कई लोगों ने मध्य प्रदेश में निवेश की इक्छा जताई है।

इस बैठक के बाद कमलनाथ ने कहा कि 'हमने प्रदेश में नई तकनीक में निवेश के लिए कई लोगों से बातचीत की और उन्हें आमंत्रित किया है। निवेश के आने से राज्य में रोजगार की संभावना बढ़ेगी, व्यापार को लाभ मिलेगा, साथ ही राज्य था निवेशकों दोनों को फायदा पहुंचेगा।'

बैठक के बाद रिलायंस कंपनी के मालिक मुकेश अंबानी ने मध्यप्रदेश के कई क्षेत्रों में निवेश की इच्छा जताई हैं। उन्होंने कहा कि हम मध्य प्रदेश के कृषि क्षेत्र में भागीदार बनना चाहते हैं इससे विकास के नए रस्ते खुलेंगे। जिस तरह अमेज़न और वालमार्ट ने ग्लोबल लॉजिस्टिक हब बनाया है रिलायंस भी मध्य प्रदेश में ग्लोबल लॉजिस्टिक हब स्थापित करेगा। हमने मुंबई और बेंगलुरु में इसकी स्थापना की है।

मुकेश अंबानी ने कहा कि आज कल देश में महिलाओं के साथ अपराध की घटना दिन प्रति दिन बढ़ती ही जा रही है। हम जियो नेटवर्क के साथ मिलकर महिला सुरक्षा और अपराध नियंत्रण अनुसंधान पर काम करेंगे।

इस बैठक की जानकारी देते हुए कांग्रेस नेता मिलिंद देवड़ा ने कहा कि 'मुंबई में वरिष्ठ कांग्रेसी नेता, मेरे पारिवारिक मित्र और मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ जी से ब्रेकफास्ट पर मिलना हुआ। वह मध्य प्रदेश में युवाओं के लिए रोजगार बढ़ाने के लिए निवेश के अवसर से यहां आए हैं और जहां तक भी संभव है, मैं उनकी मदद के लिए उपलब्ध हूं।’

इस राउंड टेबल कॉन्फ्रेंस में 35 उद्योगपतियों से मुख्यमंत्री कमलनाथ ने मुलाकात की। जिसमें रिलायंस इंडस्टीज, टाटा ग्रुप, बजाज फाइनेंस, HDFC, टाटा कैपिटल, हिंदुजा, थाइसन ग्रुप सहित कई कंपनियों के चेयरमैन मौजूद थे।