उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
आकाश विजयवर्गीय
आकाश विजयवर्गीय|Social Media
म.प्र. बुलेटिन

मध्य प्रदेश: कैलाश विजयवर्गीय के ‘बल्ला’ मार ‘लल्ला’ की ज़मानत फिर हुई ख़ारिज 

सही कहते हैं, संस्कार एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी में हस्तांतरित होते हैं..! 

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

एक कहावत है 'बड़े मियां तो बड़े मियां, छोटे मियां सुभान अल्ला', जो भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) से नाता रखने वाले मध्य प्रदेश के इंदौर के विजयवर्गीय परिवार पर सटीक बैठ रही है। ऐसा इसलिए, क्योंकि भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने लगभग ढाई दशक पहले एक अफसर पर जूता ताना था और अब उनके विधायक बेटे आकाश विजयवर्गीय ने नगर निगम के अफसर पर क्रिकेट का बल्ला चला दिया।

पिता की राह पर बेटा

इंदौर की राजनीति में कैलाश विजयवर्गीय की आक्रामक नेता की छवि रही है, उनसे जुड़े किस्से हमेशा चर्चाओं में रहे है। अब उनके विधायक बेटे आकाश विजयवर्गीय द्वारा गंजी कंपाउंड में स्थित जर्जर मकान को गिराने गए नगर निगम के अमले में शामिल अधिकारी धीरेंद्र बायस पर क्रिकेट का बल्ला चला दिया। इस घटनाक्रम ने कैलाश विजयवर्गीय के राजनीतिक अंदाज की याद ताजा कर दी है।

लगभग दो दशक पहले का वाकया है, जब स्थानीय लोगों की पानी की समस्या को लेकर कैलाश विजयवर्गीय नगर निगम आयुक्त के आवास का घेराव करने पहुंचे थे। यहां विजयवर्गीय ने तब एक अधिकारी के सामने जूता तान लिया था।

पिता की राह पर बेटा 
पिता की राह पर बेटा 
Social Media

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता के.के .मिश्रा ने कैलाश विजयवर्गीय द्वारा एक अफसर के सामने जूता ताने होने की तस्वीर जारी करते हुए कहा, "यह घटना वर्ष 1994 की है, जब विजयवर्गीय विधायक हुआ करते थे, उनका वहां मेयर हाउस के पास विवाद हुआ, इस दौरान उन्होंने वहां तैनात आईपीएस अधिकारी प्रमेाद फलणीकर पर जूता चलाया था। अब उनके बेटे ने बल्ला चलाया है, यही है संस्कारवान बेटा।"

राज्य की कानून व्यवस्था को लेकर कमलनाथ सरकार पर भाजपा लगातार हमला कर रही है। इस पर मिश्रा ने कहा, "बल्लभ भवन हिला देने की गीदड़ धमकी देने वाले शिवराज सिंह चौहान यह भी कहते है कि टाइगर अभी जिंदा है, पर आकाश विजयवर्गीय से संबद्घ मामले में टाइगर, मेमना हो गया है।"

भाजपा के संस्कारी विधायक

कैलाश विजयवर्गीय और आकाश को करीब से जानने वाले दोनों को अलग-अलग मानते है। उनका कहना है कि, दोनों की कार्यशैली अलग-अलग है, कैलाश विजयवर्गीय की राजनीति आक्रमक रही है। वह हमेशा ही राजनीति में तीखे तेवरों के लिए जाने जाते रहे हैं। उनका अपने विरोधियों से निपटने का भी उनका अलग तरीका है, वहीं आकाश अलग है, वे गंभीर है और युवाओं में धार्मिकता लाने के लिए एक संगठन भी चलाते है। इस घटना को बदलते आकाश के तौर पर देखा जा रहा है।

आकाश का अफसर को पीटने के बाद के बयान की भी खूब चर्चा है, जिसमें उन्होंने कहा था, "भाजपा ने सिखाया है, पहले आवेदन, फिर निवेदन और फिर दे दनादन। हमने हाथ जोड़कर निवेदन कई बार किया, अभी तो यह सिर्फ शुरुआत है। अब यह लड़ाई इनके खात्मे के साथ खत्म होगी।"

इंदौर के घटनाक्रम के सामने आने के बाद महापौर मालिनी गौड़ भी अपरोक्ष रूप से निगम अमले के साथ खड़ी नजर आईं। उन्होंने कहा, "नगर निगम ने जर्जर मकानों को तोड़ने की सूची बनाई है, आकाश को मौके पर जाने से पहले बात करनी थी।"

गौरतलब है कि इंदौर के गंजी कंपाउंड में एक जर्जर मकान को गिराने गए नगर निगम के अमले के अधिकारी की आकाश ने क्रिकेट के बल्ले से पिटाई कर दी थी। इस घटना के बाद आकाश जेल में हैं। इसे लेकर सियासत गरमा गई है तो दूसरी ओर कैलाश विजयवर्गीय की कार्यशैली की भी जमकर चर्चा हो रही है।

--एजेंसी