उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
Bharat band
Bharat band|image Source:- Internet 
मुख्य खबरें

बंद और भारत 

आज फिर भारत बंद बुलाया गया

Vedant Patil

Vedant Patil

भारत बंद

राजनीति की दृष्टि से देखा जाए तो ये पैंतरा हमेशा ही काम करता है| बंद दुकानें, ख़ाली सड़कें और बाइक पर सवार कुछ लोग,  ये तसवीरें आजकल हर सोशल प्लेटफॉर्म पर छाई है। कभी जनरल कभी ओबीसी कभी एस.सी. एस.टी.तो कभी राजनीतिक दल अपनी ताकत प्रदर्शन के रूप में इसका इस्तेमाल करते है।

बंद से आख़िर होता क्या है ??

बंद की सोच कहीं न कहीं गाँधीजी के असहयोग आंदोलन से प्रेरित लगती है। लेकिन अगर हम आज के परिप्रेक्ष्य में देखें तो ये तरीक़ा देश की अर्थव्यवस्था पर चोट ज़्यादा है, मतलब विरोध का ये तरीक़ा तो कही ना कहीं राष्ट्र हित में नहीं हैं |

क्योंकि बंद से पूरे देश की आय एक दिन के लिए प्रभावित हो जाती है। विरोध के अपने भी कई अलग तरीक़े है। लेकिन राजनीतिक दल और संगठन बंद का सहारा लेना ज्यादा पसन्द करते है।

क्योंकि बंद से देश का आम नागरिक जुदा होता है।

देश हित में  लिए जाने वाले निर्णय देश का अनहित करके तो नहीं लिए जा सकते।

2 अप्रैल को सुप्रीम कोर्ट के विरोध में भारत बंद अब उस बंद का बदला 6 सेप्टेंबर को भारत बंद। आज का भारत बंद पेट्रोल के बढ़ते दामों को लेकर एक सांकेतिक प्रदर्शन है। अब सोचने वाली बात ये है कि ये प्रदर्शन टूटती अर्थव्यवस्था को लेकर हुआ।

परिणाम स्वरुप होगा क्या भारत बंद भी अगर सफ़ल भी हुआ तो पूरे दिन देश के राजस्व को नुकसान होगा और ये नुकसान इन बढ़ते दामों को और हवा दे देगा।

भारत बंद।।