उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
बर्न आउट सिंड्रोम
बर्न आउट सिंड्रोम|Google
लाइफस्टाइल

ऑफिस में काम के दौरान होता है तनाव, तो आप हो चुके है इस गंभीर बीमारी के शिकार 

कल तक जिस तनाव व डिप्रेशन को हम सभी सामान्य रूप से लेते थें, आज WHO ने उसे दिया एक नया नाम। 

Puja Kumari

Puja Kumari

आज हम आपके साथ एक ऐसे विषय के बारे में चर्चा करेंगे जिससे हर किसी को जूझना ही पड़ता है। इस दुनिया में पैसा कितना महत्व रखता है ये बताने की आवश्यकता नहीं है, वहीं यह भी सच है कि व्यक्ति पैसे कमाने के लिए दिन-रात ऑफिस में काम करता है ताकि वो खुद का व अपने परिवार का पेट भर सके। ऑफिस में काम करने वाले लोगों को हमेशा ही तनाव की शिकायत लगी रहती है। वो कहावत भी आपने सुना होगा "ये बेचारा काम का मारा" जो कि ऐसे ही लोगों के लिए बनी है।

हाल ही में WHO ने एक रिपोर्ट पेश की है जिसमें ये साफ कर दिया है कि जिस भी व्यक्ति को ऑफिस में काम करने से मानसिक तनाव व थकान (बर्न आउट) की शिकायत होती है तो यह कोई बीमारी नहीं है। इतना ही नहीं WHO ने ICD (International Classification of Diseases) लिस्ट में 'बर्न आउट सिंड्रोम' (Burnout Syndrome) को एक गंभीर मानसिक समस्या भी बताया है।

बर्न आउट सिंड्रोम
बर्न आउट सिंड्रोम
Google

ऑफिस की वजह से होने वाले तनाव की शिकायत भारत में ही नहीं बल्कि विश्वभर के लोगों में देखने व सुनने को मिलती रहती है। यह भी सच है कि आज के दौर में ऑफिस में तनाव व काम का बोझ कुछ इस कदर बढ़ता जा रहा है कि लगभग हर व्यक्ति 'बर्न आउट सिंड्रोम' का शिकार हो रहा है। जो कि इंसान को मानसिक रूप से बीमार करता है। एक रिपोर्ट में यह बात सामने आई है कि भारत में काम करने वाले करीब 42 प्रतिशत कर्मचारी इस बीमारी से ग्रसित हैं।

बर्न आउट सिंड्रोम की कैसे करें पहचान

इस समस्या के जरिए आपको हर रोज काम करते समय मानसिक थकावट या फिर एनर्जी की कमी महसूस होगी।

ऑफिस में काम करते समय दूसरे व्यक्ति की बुराई व मन में नकारात्मक सोच उपजती है तो समझ जाएं कि आप बर्नआउट सिंड्रोम के गिरफ्त में आ चुके हैं।

इसके साथ ही तनाव के कारण ऑफिस में आपका परफॉर्मेंस अगर घटता जा रहा है तो समझ जाएं कि आप इसके शिकार हो गए है।

अब जब आप इसके बारे में इतना कुछ जान चुके हैं और आपको महसूस हो रहा होगा कि आप भी इसकी गिरफ्त में हैं। तो ऐसे में यह तो सवाल मन में जरूर आ रहा होगा कि आखिर इससे कैसे बचा जाए? इससे पहले यह जानना बेहद जरूरी है कि ऑफिस व घर आपके जीवन के दो महत्वपूर्ण स्थान होते हैं जिसमें सामंजस्य बनाकर रखना बेहद ही ज्यादा जरूरी है। यही वजह है कि पुरूषों की अपेक्षा महिलाओं को ऑफिस से ज्यादा घर में तनाव महसूस होता है, ये बात भी एक सर्वे के जरिए ही पता चली है।

बर्न आउट सिंड्रोम
बर्न आउट सिंड्रोम
Google

ऐसे करें बचाव

बर्नआउट सिंड्रोम से बचना चाहते हैं तो छुट्टियां लेने में संकोच न करें। ऐसा करने से तनाव व डिप्रेशन जैसी समस्या से कुछ हद तक निजात पा सकते हैं।

इसके अलावा ऑफिस में अपने लिए थोड़ा बहुत समय निकाल कर आप वो चीजें कर सकते हैं जो आपको अच्छी लगें जैसे कि किताबें पढ़ना या फिर थोड़ी बहुत गेमिंग जैसी अन्य चीजें भी करनी चाहिए जिससे काम के बीच आप थोड़ा रिलैक्स महसूस कर सकें, ऐसा करने से बर्न आउट सिंड्रोम जैसी चीजों से बचा सकता है।

अगर आपको महसूस होता है कि आपके तनाव का असर काम पर पड़ रहा है तो ऐसे में आप अपनी जगह पर बैठे ही गहरी सांस लेकर, टेबल पर छोटे मोटे पौधे रखकर एक अच्छा माहौल बना सकते हैं और इस तरह आप बर्न आउट सिंड्रोम से बच सकते हैं।