फ्रांस में इस्लामिक आतंक का कहर, अल्लाह-हू-अकबर कहकर कलम कर दी गर्दन

फ्रांस में कार्टून के विरोध में टीचर की मौत का मामला ठंडा भी नहीं हुआ था कि अब एक और दशहतगर्दी हमले ने लोगों की चिंताएं बढ़ा दी है
फ्रांस में इस्लामिक आतंक का कहर, अल्लाह-हू-अकबर कहकर कलम कर दी गर्दन
Paris knife attackGoogle Image

फ्रांस में हुए इस हमले में हमलावर ने ISIS की तर्ज पर गर्दन पर चाकू फेर का सिर कलम कर दिया

फ्रांस में फिर हुआ आतंकी हमला:

एक ओर जहां फ्रांस के इमैनुअल मैक्रो के धार्मिक कट्टरवाद और इस्लामिक आतंकवाद पर विवाद शांत भी नही हुआ था कि इसी धार्मिक कट्टरवाद का नमूना फ्रांस के नीस शहर में एक धार्मिक सरफिरे ने शहर के नामी चर्च के बाहर जमा लोगों पर अल्ला हू अकबर बोलते हुए हमला कर दिया, इस हमले में हमलावर ने अपने हाथों में चाकू थाम रखा था और इस हमले में तीन लोगों के मारे जाने की खबर है। जबकि हताहतों के बारे में काफी संख्या बतायी जा रही है।

WION ने इस मामले पर जानकारी उपलब्ध कराई

आईएसआईएस की तर्ज पर काटी गर्दन:

मामले पर करीब से नजर रखने वालों ने इस मामले पर वैश्विक मीडिया को जानकारी देते हुए बताया कि मरने वालों में से एक महिला भी थी जिसको हमलावर ने किसी प्रशिक्षित हत्यारे की तरह मारा, इस दौरान हमलावर ने महिला के सर पर चाकू रखकर अल्लाह हू अकबर का नारा लगाया और एक झटके में सर कलम कर दिया।

घटना पर रोष और शोक जताते हुए फ्रांस की नेशनल असेंबली में दो मिनिट के मौन कार्यक्रम का आयोजन भी किया गया

हमलावर हुआ गिरफ्तार:

इस हमले को अंजाम देने वाले हमलावर को नीस पुलिस डिपार्टमेंट द्वारा गिरफ्तार कर लिया गया है, चूंकि हमलावर भी घायल अवस्था मे है इसलिए नजदीकी अस्पताल में रखकर इलाज कराया जा रहा है, हमलावर के होश में आने के बाद ही इस हमले के पीछे का मकसद और प्लानिंग इत्यादि के बारे में जानकारी मिल सकेगी।

हमले की टाइमिंग पर लोगों की चिंता:

यहां आपको बताते चले कि इस हमले की टाइमिंग पर दुनिया भर के लोगों को सोचने पर मजबूर कर दिया है, सनद रहे कि फ्रांस के पेरिस स्थित स्कूल के शिक्षक सैमुअल पैटी के द्वारा अभिव्यक्ति की आजादी के संकेत स्वरूप पैगम्बर मुहम्मद साहब के उस कार्टून को दिखाया गया था जिसके छापने पर शॉर्ली एब्दो पत्रिका की घटना को अंजाम दिया गया था, विरोध के फलस्वरूप सैमुअल पैटी की दर्दनाक हत्या कर दी गयी थी।

भारत के प्रधानमंत्री ने फ्रांस की घटना की निंदा की:

फ्रांस में हुई इस तरह की कट्टरवादी घटनाओं को लेकर एक ओर जहां फ्रांस सरकार अपना पक्ष जाहिर कर चुकी है कि धार्मिक कट्टरवाद और इस्लामिक आतंकवाद को किसी भी स्थिति में स्वीकार नही किया जाएगा इस पर तुर्की और पाकिस्तान जैसे देशों द्वारा फ्रांस के इस कदम की लगातार आलोचना की जा रही है, हालांकि फ्रांस की इस पॉलिसी को भारत ने अपना समर्थन उपलब्ध कराया है।

⚡️ उदय बुलेटिन को गूगल न्यूज़, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें। आपको यह न्यूज़ कैसी लगी कमेंट बॉक्स में अपनी राय दें।

Related Stories

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com