उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
दुबई पुलिस 
दुबई पुलिस |IANS
विदेश

खाशोगी की हत्या ‘पूर्व नियोजित’, बेटा परिवार सहित अमेरिका पहुंचा  

क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान के आलोचक पत्रकार जमाल खशोगी की इंस्तांबुल के वाणिज्य दूतावास में एजेंट के साथ झड़प में ‘दुर्घटनावश’ मौत हो गई थी।

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

वाशिंगटन: सऊदी अरब ने पत्रकार जमाल खाशोगी की हत्या के संबंध में अपने बयान को बदलते हुए गुरुवार को कहा कि खाशोगी की हत्या 'पूर्वनियोजित' थी। सऊदी अधिकारियों ने पिछले हफ्ते कहा था कि क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान के आलोचक खाशोगी की इंस्तांबुल के वाणिज्य दूतावास में एजेंट के साथ झड़प में 'दुर्घटनावश' मौत हो गई थी।

सऊदी लोक अभियोजक ने गुरुवार को यह घोषणा सरकारी समाचार एजेंसी के जरिए की।सऊदी विदेश मंत्री ने कहा कि अभियोजक नई सूचनाओं के आधार पर जांच जारी रखेंगे।

वाशिंगटन पोस्ट के स्तंभकार खाशोगी 2 अक्टूबर को कुछ कागजात के लिए इंस्तांबुल स्थित सऊदी वाणिज्य दूतावास गए थे और उसके बाद लापता हो गए थे। घटना के कुछ दिन बाद तुर्की अधिकारियों ने कहा कि उन्हें मारने के इरादे से तुर्की भेजे गए 15 सऊदी एजेंटों ने 'पूर्व नियोजित' साजिश के तहत उनकी हत्या कर दी।

सऊदी की इस घोषणा के तुरंत बाद तुर्की के अधिकारी ने वाशिंगटन पोस्ट से कहा, "हम शुरुआत से कह रहे थे कि खाशोगी की हत्या पूर्व नियोजित है।" खाशोगी का शव अबतक बरामद नहीं किया गया है।

आपको बता दें, कि खशोगी की हत्या के बाद उनके बेटे परिवार सहित रियाद से अमेरिका पहुंच गए हैं। सूत्र ने गुरुवार को सीएनएन को यह जानकारी दी।

इससे पहले अमेरिका और सऊदी अरब की दोहरी नागरिकता वाले सालाह बिन जमाल खशोगी कुछ महीने पहले सऊदी द्वारा पासपोर्ट पर प्रतिबंध लगाए जाने से रियाद नहीं छोड़ पाए थे।

विदेश विभाग के एक प्रवक्ता ने कहा कि विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने सऊदी से मृतक पत्रकार के बेटे को रिहा करने का आग्रह किया था और उपप्रवक्ता रॉबर्ट पैलेडिनो ने कहा कि सालाह को देश छोड़ने की अनुमति मिलने से अमेरिका बहुत खुश है।

सालाह खशोगी समाचार पत्र 'द वाशिंगटन पोस्ट' के स्तंभकार जमाल खशोगी के सबसे बड़े बेटे हैं। दो अक्टूबर को जमाल खशोगी की इस्तांबुल स्थित सऊदी अरब दूतावास में कथित तौर पर हत्या कर दी गई थी।

सालाह का रियाद से रवाना होना सार्वजनिक अभियोजन कार्यालय द्वारा तुर्की के एक रिपोर्ट को स्वीकार किए जाने के कुछ घंटों बाद हुआ, जिसमें कहा गया है कि पत्रकार की हत्या योजनाबद्ध तरीके से की गई और कहा कि अपराध के लिए जिम्मेदार लोगों को दंडित किया जाएगा।