Uighur Muslims of China
Uighur Muslims of China|Google
विदेश

कोरोना की वजह से चीन के उइगर मुस्लिमों पर संकट के आसार।

अपूर्ण सूचनाओं के अनुसार चीन में कोरोना पीड़ित रोगियों के लिए फेफड़े जैसे अंग बिना किसी मुश्किल के प्राप्त हो रहे है जबकि चीन में पहले से हज़ारों की तादाद में अंग पाने लिए वेटिंग में खड़े है। 

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

कोरोना की आड़ में उइगर की नस्ल न मिट जाए :

उइगर मुस्लिमों की वकालत करने वाले लोगों और समाजसेवी संस्थाओं ने चीन के डिटेंशन सेंटर में बंद मुसलमानों के जीवन पर संकट को साझा किया है। सूत्रों के अनुसार चीन का उइगर मुस्लिमों के प्रति नजरिया दुनिया से छिपा नहीं है और संभव है इसी कोरोना वायरस की महामारी के चलते चीन अपनी चाल को अंजाम दे दे। इसके लिए विश्व स्तर पर लोगो द्वारा चिंता जताई जा रही है।

हो रही है अंग तस्करी :

चीन में इन दिनों कोरोना वायरस अपनी चरम अवस्था मे है जहाँ रोजाना हज़ारों की तादाद में लोग कोरोना से संक्रमित होकर अस्पतालो में भर्ती हो रहे है और कोरोना से संक्रमित होने की वजह से फेफड़े समेत किडनी और ह्रदय जैसे अंगों की जबरजस्त मांग हो रही है। यहाँ आपको बताते चले कि चीन में एक ओर जहां अंगों की मांग करने वाले लंबे समय से वेटिंग में है वही इस समय कोरोना पीड़ित लोगों को तत्काल में फेफड़े जैसे महत्वपूर्ण अंग तत्काल प्रभाव से मिल रहे है। जानकार यह संभावना जाता रहे है कि कहीं ऐसा तो नही अंग तस्करी करने वाले माफिया और उइगर मुस्लिमों पर कड़ाई करने वाले सरकारी संगठनो द्वारा डिटेंशन सेंटरों में बंद मुस्लिमों को मार कर उनके अंगों को लोगों को मुहैया कराए जा रहे हो।

चीन के पास बहाना भी है और मौका भी :

उइगर उत्थान के लिए काम करने वाले लोगों ने शंका जताई है कि चीन जिस मौके की तलाश में था वह आज उसके पास है क्योंकि वह आज दुनिया को उइगर मुस्लिमों की मौत को जस्टिफाई कर सकता है कि उनकी मौत कोरोना वायरस से संक्रमित होने की वजह से हुई है और उन्हें मारकर उनके अंगों को अपने चहेते लोगों को दे सकता है या फिर उन्हें बिना किसी हथियार के मारा जा सकता है।

क्या है जरूरत :

चूंकि मामला अब बड़े पैमाने पर उठ रहा है तो चीन को इस मामले पर अपना पक्ष रखकर सफाई देनी चाहिए। क्योंकि अगर चीन ज्यादा दिनों तक इस मुद्दे ओर अपनी चुप्पी रखता है तो पूरी दुनिया मे यह सन्देश जाएगा कि चीन में ऐसा ही हो रहा है।

उदय बुलेटिन के साथ फेसबुक और ट्विटर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com