उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
बोलसोनारो
बोलसोनारो
विदेश

ब्राजील राष्ट्रपति चुनाव : साओ पाउलो को हरा कर बोलसोनारो ब्राजील के राष्ट्रपति चुने गए 

बोलसोनारो (63) का कार्यकाल एक जनवरी 2019 से शुरू होगा। ट्रिब्यूनल के मुताबिक, बोलसोनारो अपने प्रतिद्वंद्वी साओ पाउलो से 55.54 फीसदी वोटों से आगे थे।

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

ब्रासीलिया | ब्राजील राष्ट्रपति चुनाव में दक्षिणपंथी नेता जेयर बोलसोनारो को विजेता घोषित किया गया। सीएनएन के मुताबिक, सुप्रीम इलेक्टोरल ट्रिब्यूनल ने रविवार रात को उन्हें विजेता घोषित किया।

उन्होंने अपने प्रतिद्वंद्वी साओ पाउलो के पूर्व मेयर और वर्कर्स पार्टी से उम्मीदवार फर्नाडो हद्दाद को आसानी से हरा दिया।

बोलसोनारो (63) का कार्यकाल एक जनवरी 2019 से शुरू होगा। ट्रिब्यूनल के मुताबिक, बोलसोनारो अपने प्रतिद्वंद्वी साओ पाउलो से 55.54 फीसदी वोटों से आगे थे। बोलसोनारो सात अक्टूबर को पहले चरण का चुनाव भी जीत गए थे।

बोलसोनारो ने रविवार को अपने विजयी संबोधन में कहा कि वह आजादी के पैरवीकार हैं, जो ऐसी सरकार का संचालन करेंगे, जो उन नागरिकों की सुरक्षा करेगी, जो अपने कर्तव्यों का अनुसरण करते हैं और कानूनों का सम्मान करते हैं।

उन्होंने कहा, "कानून सभी के लिए है और इसी तरह यह हमारे संवैधानिक और लोकतांत्रिक सरकार के दौरान रहेंगे।"

बोलसोनारो ने कहा कि उन्हें अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप सहित दुनियाभर के नेता फोन कर बधाई दे रहे हैं।

उन्होंने कहा, "अमेरिकी राष्ट्रपति ने हमें फोन किया और हमें शुभकामनाएं दी। यकीनन, यह बहुत ही मैत्रीपूर्ण संपर्क था।"

बोलसोनारो ने कहा कि उनकी सरकार की विदेश नीति के तहत उन देशों के साथ भी निकट संबंध बनाने जाएंगे, ब्राजील ने जिसे ज्यादा अहमियत नहीं दी।

उन्होंने कहा कि लुइज इनाकियो लूला डि सिल्वा और डिल्मा रूसेफ के राष्ट्रपति काल में सिर्फ उन्हीं देशों को अहमियत दी गई थी, जो ब्राजील से विचारात्मक रूप से निकट थे।

उन्होंने ब्राजील को सर्वाधिक विकसित देशों की श्रेणी में लाने की प्रतिबद्धता जताई।

इस दौरान हद्दाद ने कहा कि उन पर बोलसोनारो के विरुद्ध विपक्षी राजनीतिक दल में शामिल होने की जिम्मेदारी है और जिन 4.5 करोड़ लोगों ने उनके लिए वोट किया है, वह वादा करते हैं कि उनकी आजादी की रक्षा करेंगे।

गौरतलब है कि छह सितंबर को पहले चरण के चुनाव प्रचार के दौरान बोलसोनारो पर एक चुनावी रैली के दौरान एक शख्स ने उन पर चाकू से हमला कर दिया था। इस हमले में उनके पेट में गहरे जख्म बन गए थे और उन्हें 23 दिनों तक अस्पताल में रहना पड़ा था। उनके दो ऑपरेशन भी हुए थे।

--आईएएनएस