उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
America Will Deploy More Troops in Middle East
America Will Deploy More Troops in Middle East|Google
विदेश

ईरानी कमांडर को मारने के बाद, मिडिल ईस्ट में 3500 और सैनिकों की तैनाती करेगा अमेरिका।

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के आदेश पर किए गए हमले में ईरानी मेजर जनरल कासिम सुलेमानी की मौत के बाद इस सप्ताहांत तक अमेरिका मध्यपूर्व में लगभग 3,500 और सैनिकों को तैनात करेगा।

Uday Bulletin

Uday Bulletin

डोनाल्ड ट्रंप प्रशासन ने ईरान के सबसे शक्तिशाली सैन्य कमांडर और खुफिया प्रमुख मेजर जनरल कासिम सुलेमानी को न केवल तेहरान को गैर पारंपरिक युद्ध में मात देने के लिए, बल्कि सऊदी अरब को भी एक संदेश देने के लिए मार डाला।

ईरानी कमांडर को मारने के बाद अमेरिका का अगला कदम:

समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, एनबीसी न्यूज ने शुक्रवार को बताया कि 82 वें एयरबोर्न डिवीजन से अतिरिक्त सैनिकों को इराक, कुवैत और क्षेत्र के अन्य हिस्सों में तैनात किया जाएगा।

एनबीसी न्यूज ने अमेरिकी अधिकारियों का हवाला देते हुए कहा कि सैनिक इस क्षेत्र में पहले से तैनात 650 अन्य लोगों के साथ शामिल होंगे और करीब 60 दिनों तक रहेंगे।

पेंटागन ने एक बयान में कहा, "जैसा कि पहले घोषणा की गई थी कि 82 वें एयरबोर्न डिवीजन की तत्काल प्रतिक्रिया बल (आईआरएफ) ब्रिगेड को तैनाती के लिए सतर्क किया गया था, और अब उन्हें तैनात किया जा रहा है।"

बयान में आगे कहा गया, "ब्रिगेड कुवैत में अमेरिकी कर्मियों और फैसिलिटीज के खिलाफ बढ़ते खतरे के स्तर के जवाब में एक उपयुक्त और एहतियाती कार्रवाई के रूप में सैनिकों की तैनाती करेगी।"

पेंटागन का ताजा कदम ईरान के इस्लामिक रेवोल्यूशन गार्ड कॉर्प्स के कुद्स फोर्स के कमांडर सुलेमानी की मौत के बाद आया है। हवाई हमले में सुलेमानी के साथ इराकी मिलिशिया के कमांडर अबू महदी अल-मुहांदिस भी मारे गए। बगदाद इंटरनेशनल एयरपोर्ट के पास हवाई हमले में दोनों मारे गए।

ईरान के सर्वोच्च नेता अयासुल्ला अली खामेनी और राष्ट्रपति हसन रूहानी ने अमेरिका से मेजर जनरल की मौत का बदला लेने और उसे करारा जवाब देने का संकल्प लिया है।