उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
आतंकबादी हाफिज सईद
आतंकबादी हाफिज सईद|Social Media
विदेश

पाक ने आखिर हाफिज सईद को कैसे पहुंचाया सलाखों के पीछे, कहीं दिखावा तो नहीं 

भारत से रहम पाने के लिए क्या-क्या करेगा पाकिस्तान 

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

पाकिस्तान ने आज ग्लोबल आतंकी जमात-उद-दावा के प्रमुख और मुंबई के 26/11 हमलों का मास्टरमाइंट हाफिज सईद को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है । पाकिस्तानी मीडिया के अनुसार हाफिज सईद को उस समय गिरफ्तार किया गया जब वो लाहौर से गुजरांवाला जा रहा था। पाकिस्तान के आतंकवाद रोधी विभाग के अधिकारयों ने रास्ते से ही आफिज सईद को गिरफ्तार कर लिया। लेकिन यह पहली बार नहीं है जब पाकिस्तान ने आतंकी सरगना को गिरफ्तार किया हो। इससे पहले भी उसपर कई बार कार्रवाई हुई है। लेकिन वो हर बार बच कर निकल जाता है।

दरअसल आफिज सईद गुजरांवाला का रहने वाला है। पूरे पाकिस्तान में उसकी तूती बोलती है। मौत और आतंक का दूसरा नाम आफिज सईद है। लेकिन बीते कुछ समय से उसके दिन ख़राब चल रहे हैं। वो बीमार भी रहता है। और अपने आखिरी समय में आज सलाखों के पीछे है। हाफिज सईद की गिरफ़्तारी के बाद सीटीडी अधिकारीयों ने गिरफ्तारी के संबंध में एक संवाददाता सम्मेलन आयोजित किया है। जहां उन्होंने इस बात की पुष्टि की है कि हाफिज अब सलाखों के पीछे है। लेकिन उसे कहां रखा गया है ये नहीं बताया गया।

भारत के दवाब में कार्रवाई को मजबूर हुआ पाकिस्तान

14 फ़रवरी को जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले की जिम्मेदारी जैश-ए मोहम्मद आतंकी संगठन ने ली थी। इस हमले की पूरी दुनिया ने आलोचना की थी। और पाकिस्तान पर आतंकवाद को बढ़ावा देने का आरोप लगाया गया था। चारों तरफ से घिरने के बाद पाकिस्तान ने आतंकियों के खिलाफ आख़िरकार कार्रवाई शुरू कर दी। मार्च महीने में पाकिस्तान ने हाफिज के आतंकी संगठन जमात-उद-दावा को बैन कर दिया था।

अमेरिका है दूसरी बड़ी वजह

पुलवामा हमले के बाद भारत ने अपनी तरफ से कार्रवाई करते हुए मसूद अजहर के आतंकी संगठन जैश के ठिकाने पर एयर स्ट्राइक किया। जिसमें जैश के ठिकानों का नामों निशान मिटा दिया गया। भारत की यह कार्रवाई पाकिस्तान को पसंद नहीं आई उसने भारत को जवाब देने के लिए अमेरिका से मिले F-16 विमान का प्रयोग किया । जिसपर अमेरिका ने आपत्ति जताई और पाकिस्तान को फटकार लगाई। और अब पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान 21 जुलाई को तीन-दिवसीय दौरे पर अमेरिका जाने वाले हैं। हाफिज को अमेरिका भी आतंकवादी मानता है। उसने हाफिज पर 69 करोड़ रूपये का इनाम भी रखा है। ऐसे में अमेरिका, आर्थिक तौर पर पाकिस्तान के लिए बड़ी आस बन सकता है।

पुलवामा हमले के बाद पाकिस्तान की बड़ी किरकिरी हुई थी। हाफिज सईद की गिरफ़्तारी डैमेज कंट्रोल का काम कर सकती है। पाकिस्तान की छवि दुनिया भर के देशों में ख़राब हो गई है। जिसके बाद पाकिस्तानी हुकूमत ने आतंकवाद के खिलाफ कार्रवाई शुरू कर दी है। 

भारत के लिए दिखावटी कार्रवाई

ऐसा पहली बार नहीं है कि पाकिस्तान ने आतंकवाद के खिलाफ कार्रवाई की हो। पाकिस्तान ने कई बार दिखावे के लिए आतंक के सरगनाओं को सलाखों के पीछे भेजा रहा है। चाहें मसूद अजहर हो या हाफिज सईद पाकिस्तान ने कई बार इनपर कार्रवाई की है लेकिन पाकिस्तानी हुकूमत इन्हें जेल में डालने के बाद मेहमान नवाजी पर लग जाती है। कुछ दिन तक कार्रवाई होती है और फिर छोड़ दिया जाता है।

भारत चाहता है कि हाफिज सईद को पाकिस्तान भारत के हवाले कर दे। लेकिन पाकिस्तान अपनी ही जुगत लगाए बैठा है। भारत ने हाफिज के खिलाफ कई बार डोजियर भेजा लेकिन पाकिस्तान उसे हर बार गलत बता देता है। पाकिस्तान ने भले ही हाफिज को गिरफ्तार कर लिया हो लेकिन भारत के लिए ये राहत की खबर नहीं है।