उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
UAE Golden Visa
UAE Golden Visa|Google
विदेश

क्या है ये ‘गोल्डन वीजा कार्ड’, आखिर किसे मिलेगा इसका फायदा ?

यूएई ने गोल्डन वीजा कार्ड देने की घोषणा की है, इसका फायदा भारतीयों को किस तरह से मिलेगा। 

Puja Kumari

Puja Kumari

अक्सर हम कई बार वीजा या फिर पासपोर्ट जैसे शब्दों को सुनते आ रहे हैं लेकिन अभी भी कुछ लोग ऐसे हैं जिनको इस बारे में पूरी तरह से जानकारी नहीं होती है क्योंकि यह तब प्रयोग किया जाता है जब व्यक्ति दुनिया में मौजूद विभिन्न देशों में यात्रा करने की इच्छा रखता है। देखा जाए तो दूसरे देशों में सफर करने के लिए ये एक तरह का मंजूरी कार्ड है। जिसके जरिये आपको दूसरे देशों में सफर करने के लिए रोका नहीं जा सकता है। हालांकि वीजा (Visa) के भी कई प्रकार होते हैं और जिस भी व्यक्ति को जिस तरह के वीजा की आवश्यकता होती है वो उस तरह का वीजा बनवाता है।

लेकिन आज हम जिस वीजा की चर्चा करने जा रहे हैं उसकी बात दुनियाभर में हो रही है जी हां क्योंकि यह एक खास तरह का वीजा है जिसे यूएई की तरफ से दिया जा रहा है। हम बात कर रहे हैं "गोल्डन वीजा" की, इस शब्द को आपने आज से 2 माह पहले भी सुना होगा पर उस दौरान ये इतना चलन में नहीं था।

बता दें कि 2 माह पहले 21 मई को दुबई के शेख ने ये ऐलान किया कि अब उनके देश में रहने वाले डॉक्टरों, इंजीनियर, कलाकारों, निवेशकों या फिर किसी बड़ी हस्तियों को जो कि दुबई में निवास कर रहे हैं उन्हें 'गोल्डन वीजा कार्ड' प्रदान किया जाएगा। पर सवाल ये उठता है कि आखिर ये गोल्डन वीजा कार्ड है क्या? और ये किसे मिलेगा? इससे क्या फायदा होगा? ये तमाम सवाल हैं जो आम लोगों के मन में आ रहे हैं। इसलिए आज हम आपको इस विषय में विस्तृत रूप से जानकारी देने जा रहे हैं।

क्या है ‘गोल्डन वीजा कार्ड’ (Golden Visa Card)

बात करें अगर 'गोल्डन वीजा कार्ड' की तो यह मुख्य रूप से यूएई में रह रहे प्रवासियों के लिए है जो कि काफी समय से यहां रह रहे हैं और अब वो वहां स्थाई रूप से रहना चाहते हैं। इस गोल्डन कार्ड के जरिए वो यूएई के किसी भी हिस्से में रह सकते हैं। अब सरल शब्दों में समझें तो यूएई यह 'गोल्डन कार्ड' (Golden Card) की सुविधा विशेषरूप से उन होनहार छात्रों या फिर बड़े हस्तियों को दे रहा है जो दूसरे देशों से आकर दुबई में निवास कर रहे हैं।

फिल्हाल इस गोल्डन वीजा कार्ड को 2 रूपों में बांटा गया है जिसमें से एक अधिकतम 10 साल का स्थायी निवास स्थान प्रदान करता है तो दूसरा 5 साल का। 10 साल का निवास प्रदान करने वाला कार्ड खासतौर पर बड़े निवेशकों, उद्यमीजगत के लोगों व पेशेवर डॉक्टरों व इंजीनियरों के लिए हैं वहीं अगर बात करें 5 साल के निवास स्थान देने की तो ये उन होनहार छात्रों के लिए हैं जो यहां आकर अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन करना चाहते हैं।

इस स्थाई निवास योजना का मुख्य उद्देश्य यही है कि दूसरे देशों के लोग ज्यादा से ज्यादा तादात में प्रवासी वहां आकर निवास करें और उनके देशों में प्रतिभाशाली लोगों की संख्या बढ़े। इससे उनके अर्थव्यवस्था को तो लाभ होगा ही इसके अलावा उनके देश में विकास दर भी तेज हो जाएगा। इस योजना के जरिए यूएई ने सबसे पहला 'गोल्डन वीजा कार्ड' (Golden Visa Card) भारतीय कारोबारी लालो सैमुअल को मिला जो यूएई में निवास कर रहे हैं। आपको शायद पता नहीं होगा लेकिन लालो सैमुअल का नाम साल 2013 से लेके 2015 तक लगातार फोर्ब्स मैगजीन के अरब क्षेत्र के टॉप 100 में सबसे प्रभावशाली भारतीय कारोबारियों में शामिल थें।

UAE Golden Visa
UAE Golden Visa
Google

किसे होगा लाभ

अगर आप आंकड़ों पर एक नजर डालेंगे तो दुबई में बड़ी संख्या में भारतीय प्रवासी निवास करते हैं इसका उदाहरण आपको वहां की जनसंख्या से मिल सकता है जो कि लगभग 9 मिलियन है, इस जनसंख्या का 30 प्रतिशत भारतीय प्रवासी यहां पर निवास करते हैं। ऐसे में यूएई द्वारा ये सुविधा प्रदान करना वहां रहने वाले भारतीयों के लिए बेहद ही सुविधाजनक होगा।

इस योजना के जरिए लोगों को एक सहुलियत और मिल गई है कि जो भी व्यक्ति को ये कार्ड मिलेगा उसमें उनके साथ उनके बच्चों को भी शामिल किया जाएगा। वैसे भारत और यूएई के बीच तेल व्यापार के कारण पहले से ही संबंध जुड़ा हुआ है लेकिन 'गोल्डन वीजा' के जरिये यह संबंध और भी ज्यादा गहरा हो जाएगा।

हालांकि इस बात में कोई दो राय नही है कि यूएई द्वारा शुरू किया गया ये योजना अन्य भारतीयों को भी वहां जाने के लिए आकर्षित करेगा जिससे यूएई की अर्थव्यवस्था को भी लाभ पहुंचेगा।