udaybulletin
www.udaybulletin.com
पाकिस्तानी विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी
पाकिस्तानी विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशीTwitter
विदेश

Pulwama Attack: पुलवामा हमले के बाद पाकिस्तान ने UN को लिखा खत कहा, भारत से बचा लीजिये  

पाकिस्तानी विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने UN को खत लिख कर कहा है कि भारत के दबाव के कारण पाकिस्तान के सुरक्षा हालत खराब हो रहे हैं। कृपया हस्तक्षेप करें। 

जम्मू कश्मीर (Jammu Kashmir) के पुलवामा में हुए आतंकी हमले (Pulwama Terror Attack) के बाद आतंकवाद परस्त देश पाकिस्तान (Pakistan) का चौतरफा विरोध हो रहा है। अमेरिका जैसे शक्तिशाली देश ने भी पाकिस्तान (Pakistan) को सख्त हिदायत देते हुए अपनी धरती को आतंकवाद मुक्त करने की सलाह दी है। भारत, पाकिस्तान (Pakistan) पर अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर दबाव बनने में सफल हो रहा है। लेकिन भारत के साथ पाकिस्तान का बढ़ रहा है यह तनाव पाकिस्तान के स्थानीय लोगों में डर पैदा कर रहा है। अब पाकिस्तान भी चाहता है, कि भारत पाकिस्तान (Pakistan) को बाक्स दे। जिसके लिए पाकिस्तान ने संयुक्त राष्ट्र (UN) का दरवाजा खटखटाया है।

पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी (Pakistan Foreign Min Shah Mahmood Qureshi) ने भारत-पाकिस्तान के बीच बढ़ रहे इस ‘तनाव को कम' करने के लिए संयुक्त राष्ट्र (UN) से तत्काल हस्तक्षेप करने की अपील की है। शाह महमूद कुरैशी (Pakistan Foreign Min Shah Mahmood Qureshi) ने संयुक्त राष्ट्र (UN) महासचिव एंतोनियो गुतारेस को सोमवार को पत्र भेजकर दोनों देशों के बीच तनाव कम करने में उनकी मदद मांगी है।

‘मैं भारत द्वारा पाकिस्तान के खिलाफ बल प्रयोग के खतरे के कारण हमारे क्षेत्र में खराब हो रहे सुरक्षा हालात की ओर आपका ध्यान आकर्षित करता हूं।’ भारत ने कश्मीर मामले पर किसी भी तीसरे पक्ष के हस्तक्षेप को नकार दिया है और वह कहता आया है कि भारत एवं पाकिस्तान के संबंधों से जुड़े सभी मामलों को द्विपक्षीय तरीके से सुलझाया जाना चाहिए।’
पाकिस्तानी विदेश मंत्री कुरैशी

पाकिस्तानी मंत्री ने अपने पत्र में कहा है कि भारत के पुलवामा में जो हमला हुआ है उसमें पाकिस्तान का कोई हाथ नहीं है। पुलवामा के स्थानीय लोगों ने CRPF जवानों पर हमला किया है। इसमें जैश ए मोहम्मद का कोई हाथ नहीं है। भारत हमेसा बिना करवाई के पाकिस्तान पर आरोप लगाता आया है। भारत का पाकिस्तान को जिम्मेवार ठहराना बेतुका है। भारत के राजनीतिक पार्टियां, घरेलु राजनीतिक कारणों से पाकिस्तान के खिलाफ बयानबाजी करती हैं जिससे तनाव पूर्ण माहौल पैदा किया जा सके और राजनीतिक लाभ उठाया जा सके।

आपको बात दें कि, 14 फ़रवरी को जम्मू कश्मीर के पुलवामा आतंकी हमले में CRPF के 49 जवान शहीद हो गए थे। इस हमले की जिम्मेवारी पाकिस्तान परस्त आतंकी संगठन जैश ए मोहम्मद ने ली है। इस हमले के बाद से ही भारत पाकिस्तान के बीच तनाव बढ़ गया है।