केजरीवाल की “आप” के समर्थकों को कंफ्यूज करने आ गई नई आP, असली ‘आप’ ने जताया विरोध! 

इस नई पार्टी की वजह से जनता कन्फ्यूज हो सकती है.
केजरीवाल की “आप” के समर्थकों को कंफ्यूज करने आ गई नई आP, असली ‘आप’ ने जताया विरोध! 
AAPGoogle

दिल्ली में आम आदमी पार्टी के लिए एक नई मुसीबत खड़ी हो गई. ये मुसीबत है एक नई पार्टी जो इस बार लोकसभा चुनावों में आम आदमी पार्टी को टक्कर देगी. इस पार्टी का नाम है आपकी अपनी पार्टी (Peoples). टाइम्स ऑफ इंडिया कि रिपोर्ट के मुताबिक AAP (Peoples) पार्टी दिल्ली में इस बार सभी सात लोकसभा सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारेगी. वहीं आम आदमी पार्टी को डर है कि इस नई पार्टी की वजह से जनता कन्फ्यूज हो सकती है.

दूसरी तरफ पूर्व बीएसपी नेता रामबीर चौहान ने बताया कि उनकी पार्टी AAP (Peoples) सत्ताधारी आप पार्टी को अपना सबसे बड़ा दुश्मन मानती हैं और 2020 के विधानसभा चुनावों में आप सरकार को हटाना चाहती है.

चौहान का कहना है कि पूरी दिल्ली में उनकी पार्टी के समर्थक हैं जो इस देश को जाति की राजनीति से छुटकारा दिलवाना चाहते हैं और गरीबों की मदद करना चाहते हैं. उन्होंने कहा कि गरीबों ने एक साथ आकर इस नई पार्टी को बनाया है क्योंकि केजरीवाल सरकार ने गरीबों के लिए कुछ नहीं किया है. जब चौहान से पूछा गया कि क्या उन्होंने केजरीवाल सरकार की लोकप्रियता का फायदा उठाने के लिए इस पार्टी को बनाया तो चौहान ने कहा, ''आप' की अब कोई लोकप्रियता नहीं बची है.'

आप (peoples) पार्टी ने पिछले साल 11 जुलाई को रजिस्टर हुई थी. केजरीवाल की आम आदमी पार्टी ने नई पार्टी के नाम को लेकर आपत्ति जताई थी. इसके साथ ही पार्टी के चिन्ह से भी आम आदमी पार्टी को दिक्कत थी क्योंकि उनका पार्टी चिन्ह टॉर्च 'आप' के चिन्ह झाड़ू की तरह दिखता है. और उन्हें डर था कि इससे लोग दोनों पार्टियों के बीच कन्फ्यूज हो सकते हैं.

हालांकि ये बात भी गौर करने वाली है कि जो पार्टी 'आप' के खिलाफ खड़े होने के बड़े-बड़े दावे कर रही है उसे उसके पार्टी ऑफिस के 100 मीटर के इलाके में भी कोई नहीं जानता. आप (Peoples) का पार्टी ऑफिस बुराड़ी के अमृत विहार में स्थित है. इतना ही नहीं, इसके ऑफिशियल ट्वीटर हैंडल पर भी केवल 22 फॉलोअर्स ही हैं. हालांकि पार्टी का दावा है कि ये उनका ऑफिशियल अकाउंट नहीं है.

⚡️ उदय बुलेटिन को गूगल न्यूज़, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें। आपको यह न्यूज़ कैसी लगी कमेंट बॉक्स में अपनी राय दें।

No stories found.
उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com