उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
Banada Loksabha Election Result
Banada Loksabha Election Result|Social Media
इलेक्शन बुलेटिन

बांदा चित्रकूट मानिकपुर 48 लोकसभा मे खुले आश्चर्यजनक रिजल्ट !

जीते हुए विधायक को दिया टिकट अब होगा उपचुनाव 

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

बांदा लोकसभा में मतदान होने तक बहुत ज्यादा संदिग्ध स्थिति रही, मतदाता कुछ भी बोलने को तैयार नही थे, केवल प्रत्याशी के नाम पर वोट मिलना असंभव जैसा ही था।

सिटिंग विधायक (मानिकपुर) भाजपा आर. के. पटेल, पूर्व सांसद श्यामाचरण गुप्त (पूर्व में भाजपा सांसद) अब सपा बसपा गठबंधन और कांग्रेस से कुख्यात दस्यु सरगना के परिवार से बालकुमार पटेल मैदान में अपनी ताल ठोक रहे थे , तीनो एक ही पट्टी के नेता थे और तीनों में बराबर का दमखम था, लेकिन यहाँ आमजन में श्यामाचरण के जीतने की शंका ज्यादा पायी जा रही थी क्योंकि सवर्ण वर्ग खासकर बांदा जिले का वैश्य वर्ग और मानिकपुर में तेंदू पत्ते से जुड़े व्यवसायी और कामगार इन्हें पूर्ण समर्थन दे रहे थे
भाजपा ने यहां सबसे आखिरी दौर में पत्ते खोले थे , जहां केंद्रीय नेताओं को यह खोजने में मसक्कत करनी पड़ी कि टिकिट आखिर किसे दिया जाए ,
खैर आखिर कर निर्णय लिया गया झांसी के साथ महोबा बांदा के प्रत्याशी निर्धारित किये और बांदा मानिकपुर संसदीय क्षेत्र को लेकर बहस छिड़ी, कि आखिर क्यों एक सिटिंग विधायक को लोक सभा का टिकिट दिया गया

R.K. SINGH PATEL BANDA BJP
R.K. SINGH PATEL BANDA BJP
Social Media 


बाल कुमार पटेल को कांग्रेस ने टिकिट दिया जो संभावित था

  • अब जब आखिरकार परिणाम आ चुके है , दलगत ओर नेतागत समीकरण सामने है
    यहां आर के पटेल ने कुल पड़े मतो का 46.2% वोट और कुल प्राप्त मत 477926 पाकर अपने सबसे नजदीक प्रतिद्वंद्वी श्यामाचरण गुप्त को 58947 के अंतर से हराया।
    वही सपा बसपा गठबंधन के प्रत्याशी श्यामाचरण को कुल मत 418988 और कुल मतो के 40.5% मत प्राप्त कर दूसरे नंबर पर रहे , वही जहां काँग्रेस ने दस्यु सरगना ददुआ के भाई बाल कुमार पटेल पर अपना दांव लगाया था वह कुल पड़े मतो का 7.29% मत पाकर तीसरे नम्बर पर रहे ,बालकुमार पटेल को 75438 वोट मिले।
BANDA LOKSABHA SEAT RESULT
BANDA LOKSABHA SEAT RESULT
ECI

यहां पर एक बात का उल्लेख और करना होगा यहाँ कोई नेता वास्तविक रूप से चुनाव लड़ा ही नही क्योंकि भाजपा ने अपने पत्ते सबसे आखिरी में खोले जबकि कांग्रेस ने काफी पहले टिकिट निर्धारित कर दिया था चुनाव प्रचार भी चला लेकिन कामयाबी सिफर ही रही, इसलिए इस चुनाव को बाँदा में मोदी बनाम अन्य के नाम से जाना और लड़ा गया
आखिरकर अब भाजपा के सामने एक नया उपचुनाव खड़ा है क्योंकि आर के पटेल के लोकसभा चुनाव जीतने के बाद मानिकपुर सीट खाली होगी, देखते है भाजपा रूठे हुए नेताओ को विधान सभा भेजती है या कोई नया चेहरा जनता के सामने होगा