Uday Bulletin
www.udaybulletin.com
उपेंद्र कुशवाहा पर लगा पैसे लेकर टिकट देने का आरोप 
उपेंद्र कुशवाहा पर लगा पैसे लेकर टिकट देने का आरोप |Google
इलेक्शन बुलेटिन

पैसा दो टिकट लो , एक सीट के लिए तीन लोगों से वसूल लिए पैसे! ये नेता देश की बोली लगा रहे हैं

बिहार के सीतामढ़ी से मौजूदा सांसद और राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (रालोसपा) के नेता रामकुमार शर्मा ने अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा पर टिकट बेचने का आरोप लगाया है। 

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

2019 के लोकसभा चुनाव से पहले देश में राजनीति गरमाई हुई है। नेताओं के बीच आरोप-प्रत्यारोप का खेल खुलेआम खेला जा रहा है। हर ओर तूफानी बयानबाजी के बादल मंडरा रहे हैं। दो दिन पहले भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की वरिष्ठ नेता मेनका गांधी ने बहुजन समाजवादी पार्टी (बसपा) की मुखिया मायावती पर आरोप लगाया था कि मायावती 15 करोड़ रूपये लेकर लोकसभा का टिकट देती हैं। अब ठीक ऐसा ही आरोप राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (रालोसपा) के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा पर लगा है। लेकिन खास बात यह है कि उपेंद्र कुशवाहा पर आरोप लगाने वाला नेता किसी विपक्षी दल का नहीं है बल्कि उनकी ही पार्टी में मौजूदा सांसद हैं।

दरअसल बिहार के सीतामढ़ी से मौजूदा सांसद और राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (रालोसपा) के नेता रामकुमार शर्मा ने अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा पर लोकसभा चुनाव के लिए टिकट बेचने का आरोप लगाते हुए कहा कि मोतिहारी (पूर्वी चंपारण) सीट के टिकट के लिए तीन लोगों से पैसे वसूले गए। उन्होंने ये जानकारी संवाददाता सम्मेलन में दी।

राष्ट्रीय लोक समता पार्टी सांसद रामकुमार शर्मा ने कहा कि, अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा के पार्टी से अलग होने के बाद रालोसपा पार्टी के अंदर दो गुट बन गए हैं।

रामकुमार ने दावा किया,

"मैंने रालोसपा के राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) से अलग होने का विरोध किया था। इस बात से उपेंद्र नाराज थे। इसी वजह से सीतामढ़ी सीट रालोसपा ने नहीं ली और पार्टी ने मुझे लोकसभा का टिकट नहीं दिया।"

रामकुमार ने उपेंद्र कुशवाहा पर आरोप लगाया कि महागठबंधन में रालोसपा को पांच सीटें मिली हैं। उपेंद्र कुशवाहा को लगा कि काराकाट से जीत नहीं मिलने वाली तो उजियारपुर से भी चुनाव लड़ रहे हैं।

शर्मा ने कहा, "कुशवाहा ने मोतिहारी सीट का टिकट देने के लिए पहले प्रदीप मिश्रा से पैसे लिए। इसके बाद माधव आनंद से भी टिकट के नाम पर पैसे वसूल लिए और बाद में यहां से आकाश कुमार सिंह से पैसा लेकर टिकट दे दिया गया। आकाश रालोसपा के सदस्य भी नहीं थे।"

इससे पहले, पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष नागमणि भी कुशवाहा पर टिकट बेचने का आरोप लगाकर पार्टी छोड़ चुके हैं। उपेंद्र कुशवाहा ने नागमणि को आरोप साबित करने की चुनौती दी थी।

मायावती
मायावती
Twitter

आपको बता दें कि, कुछ दिन पहले मेनका गांधी ने भी मायावती पर आरोप लगाते हुए कहा था कि -

"सब जानते हैं कि मायावती टिकट बेचती हैं। उनकी पार्टी के लोग गर्व से इस बात को स्वीकार भी करते हैं। मायावती के पास 77 घर हैं। वे टिकट के बदले पैसे या हीरे लेती हैं। वो लोकसभा के लिए 15 करोड़ रूपये लेती हैं। बिना पैसे के वो टिकट नहीं देती। "

बीजेपी नेता मेनका गांधी के इस आरोप का जवाब देते हुए मायावती ने कहा था कि -

"बीजेपी के नेतागण बीएसपी-सपा-आरएलडी गठबंधन के हाथों हार से इतने ज्यादा भयभीत हैं कि वे आयेदिन मुद्दों के बजाए गठबंधन व इसके शीर्ष नेताओं के खिलाफ जातिवादी व अनर्गल बयानबाजी ही करते रहते हैं जिसके उकसावे में नहीं आना है व चुनाव में अच्छा रिजल्ट दिखाकर इन्हें मुंहतोड़ जवाब देना है।

बहरहाल रालोसपा अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा पार्टी नेताओं द्वारा लगाए गए इस आरोपों को खारिज करे हुए कहते हैं कि

"मैं चाहते हूं उन्होंने जो मेरे ऊपर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगाए हैं उनकी जांच हो। जिससे दूध का दूध और पानी का पानी हो जाये और जनता को सच्चाई का पता चले।"

खैर कौन सच बोल रहा है और कौन झूठ, इसकी जांच चुनाव आयोग तो करेगी ही। लेकिन जनता के बीच सच्चाई का आ पाना मुश्किल है।