उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
SP_BSP
SP_BSP|Google
इलेक्शन बुलेटिन

लोकसभा इलेक्शन 2019 : ‘बुआ-बबुआ’ एक साथ, अकेला रह गया राहुल का ‘हाथ’ परंतु फिर भी बीजेपी सबसे ज्यादा उदास!

यूपी में महागठबंधन के एलान के साथ 2019 का चुनावी गणित पेचीदा और दिलचस्प हो गया है 

Suraj Jawar

Suraj Jawar

कहते हैं, राजनीति में ना कोई स्थाई दुश्मन होता है, ना कोई स्थाई दोस्त. फिर भी कुछ दुश्मनियां ऐसी होती हैं, जिनको भुलाने में बरसों लगते हैं. बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने समाजवादी पार्टी के साथ अपनी तीन दशक पुरानी दुश्मनी पर मिट्टी डालने का फैसला किया. लेकिन यह फैसला कितना मुश्किल था, यह बात बताने से वे नहीं चूकीं. अखिलेश यादव के साथ साझा प्रेस कांफ्रेंस के दौरान मायावती ने कहा कि देश की खातिर वे यूपी गेस्ट हाउस कांड को भुलाने को तैयार हैं. वही गेस्ट हाउस कांड जिसमें मायावती पर जानलेवा हमला हुआ था और उसके बाद एसपी-बीएसपी के रास्ते हमेशा के लिए अलग हो गए थे.

मायावती जिस वक्त गेस्ट हाउस को याद कर रही थीं, मंच पर साथ बैठे थे, गेस्ट हाउस कांड के खलनायक मुलायम सिंह यादव के साहबजादे और अब समाजवादी पार्टी के सर्वेसर्वा बन चुके अखिलेश यादव. अखिलेश ने कहा- मैं बीएसपी के साथ समझौते के लिए दो कदम पीछे भी हटने को तैयार था. लेकिन मायावती जी ने बराबर सीटें देने का फैसला किया, इसलिए मैं इनका आभारी हूं. समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता यह बात याद रखें कि अगर कोई मायावती जी के बारे में कोई अपमानजनक बात कहता है, तो बहनजी का नहीं बल्कि मेरा अपमान होगा.

साफ है गोमती में पानी अब बहुत बह चुका है. 2017 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी के हाथों बुरी तरह पिटने के बाद से ही यह दिखना शुरू हो गया था कि अपना वजूद बचाने के लिए सपा-बसपा को एक साथ आना पड़ेगा. प्रयोग के तौर पर तीन लोकसभा उप-चुनावों में दोनों पार्टियों ने हाथ मिलाया और नतीजा आंखे खोलने वाला रहा. गोरखपुर और फूलपुर जैसी सीटों पर बीजेपी को समाजवादी पार्टी के हाथों हार का सामना करना पड़ा. ये दोनों सीटें मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और उप-मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के इस्तीफे के बाद खाली हुईं थीं और बीजेपी ने कभी कल्पना नहीं की थी, उसे उपचुनाव में हार का सामना करना पड़ेगा. लेकिन गोरखपुर और फूलपुर के बाद सांप्रादायिक रूप से संवेदनशील कैराना में भी एसपी-बीएसपी के समर्थन से आरएलडी उम्मीदवार ने बीजेपी पर जीत हासिल की.

हर किसी की समझ में आ गया कि आक्रमक वोट बैंक वाले एसपी-बीएसपी अगर अलग रहे तो मिटा दिये जाएंगे लेकिन अगर साथ आए तो लखनऊ ही नहीं बल्कि दिल्ली का तख्त हिलाने का सपना भी देख सकते हैं. लेकिन क्या एसपी-बीएसपी का एक साथ आना इतना आसान था? अटकले लंबे समय से चल रही थीं. अखिलेश बोल रहे थे लेकिन मायावती चुप थीं. उनकी चुप्पी रहस्यमय थी. बीच-बीच में उन्होंने यह भी कहा कि अगर सम्मानजनक सीटें नहीं मिलीं तो वे अकेले लड़ना पसंद करेंगी.

2019 की आहट तेज हुई तो तब जाकर यह चुप्पी टूटी. समझौते के एलान से कुछ बातें बेहद साफ हैं. पहली बात यह है कि दोनो पार्टियों ने इस घोषणा से पहले लंबा होमवर्क किया है. दूसरी बात- एसपी-बीएसपी मानकर चल रही हैं कि किला फतह करने के लिए एक-दूसरे का साथ ही काफी है. किसी तीसरे या चौथे पक्ष को साथ लेने की जरूरत नहीं है. इसलिए यूपी की 80 में 76 सीटें दोनों पार्टियों ने बराबर-बराबर बांट लीं. बची चार सीटों में दो सीटें साझीदारों के लिए छोड़ी गई हैं.

यानी अगर अजित सिंह का राष्ट्रीय लोकदल महागठबंधन में शामिल होना चाहे तो उसे अधिकतम दो सीटें दी जा सकती हैं. अमेठी और रायबरेली यानी राहुल गांधी और सोनिया गांधी की सीट पर महागठबंधन उम्मीदवार खड़े नहीं करेगा. यह इस बात का संकेत है कि महागठबंधन चुनाव के बाद समझौते का रास्ता खुला रखना चाहता है. लेकिन कांग्रेस के लिए मायावती की टिप्पणी खासतौर से गौर करने लायक है. मायावती का कहना है कि हमने कांग्रेस को महागठबंधन में शामिल नहीं किया है. मतलब यह है कि समझौते की कोशिश नाकाम नहीं हुई हुई है बल्कि कांग्रेस को साथ लेने का कोई इरादा ही नहीं था.

क्या यह एसपी-बीएसपी का अति-आत्मविश्वास है? बेशक यह अति-आत्मविश्वास लगे लेकिन राज्य के राजनीतिक समीकरण ऐसे हैं कि एसपी और बीएसपी के एक साथ आने से पलड़ा निर्णायक रूप से उनके पक्ष में झुक जाता है. महागठबंधन बनने से यह साफ हो गया है कि दोनों पार्टियां 2019 के नतीजों के बाद एक बहुत बड़ी राजनीतिक ताकत बनकर उभरेंगी. राजनीतिक विश्लेषक इस बात का अनुमान लगाने में जुटे हैं कि बीजेपी को कितना नुकसान होगा और वह यूपी में होनेवाले नुकसान की भरपाई किस तरह कर पाएगी.

बुआ पीएम, बबुआ सीएम!

हालांकि कोई भी राजनीतिक विश्लेषण अंतिम नहीं होता है. लेकिन एसपी-बीएसपी के जनाधार को जोड़ने पर जो निष्कर्ष निकल रहे हैं, उससे यही लगता है कि यूपी की 80 सीटों में 60 सीटों पर महागठबंधन बहुत मजबूत स्थिति में है. ज्यादातर राजनीतिक विश्लेषक एक सुर में कह रहे हैं कि महागठबंधन मिलकर 2019 में 50 सीटें जीत सकता है, इतना ही नहीं ये आंकड़ा और आगे बढ़ सकता है.

अगर सचमुच ऐसा हुआ तो इसका मतलब यह है कि 2019 में बीजेपी और कांग्रेस के बाद एसपी-बीएसपी देश की तीसरी बड़ी राजनीतिक शक्ति होगी. महागठबंधन की ताकत इतनी ज्यादा होगी कि उसे शामिल किए बिना दिल्ली में कोई सरकार नहीं बनेगी. राजनीति पर नजर रखने वाले यह मानते हैं कि बहनजी किंगमेकर नहीं बनना चाहती बल्कि उनका सपना क्वीन बनने का है. एसपी-बीएसपी का समझौता ही इसी बात को लेकर है कि अखिलेश मायावती की दिल्ली वाली महत्वाकांक्षा पूरी करने में मददगार हों और बदले में बहनजी उन्हें यूपी का सीएम बनने दें.

यही वजह है कि जो बीएसपी 2014 के चुनाव में खाता तक नहीं खोल पाई, उसे अखिलेश 2019 में साथ लाने के लिए ज्यादा सीटें देने को तैयार थे. अखिलेश ने एक सवाल के जवाब में यहां तक कहा कि अगर उत्तर प्रदेश से देश का प्रधानमंत्री बनता है तो उन्हें खुशी होगी. गठबंधन के लगातार चलते रहने और यूपी विधानसभा का चुनाव साथ मिलकर लड़ने की बात जिस तरह दोनों नेताओं ने दोहराई है, उससे लगता है कि `बुआ पीएम, बबुआ सीएम’ का फॉर्मूला दोनों नेताओं के दिमाग में है. यह खबर भी लगातार चल रही है कि अगर परिणाम सपा-बसपा के अनुकूल रहा तो शरद पवार जैसे नेता दलित महिला प्रधानमंत्री का शिगूफा छोड़ेंगे और इसके लिए बाकी क्षेत्रीय पार्टियों को राजी किया जाएगा और कांग्रेस पर भी दबाव बढ़ाया जाएगा.

क्या बहुकोणीय लड़ाई विपक्ष के लिए फायदेमंद है?

लेकिन क्या एसपी-बीएसपी के लिए खेल इतना आसान है? 2014 के लोकसभा चुनाव में यूपी की 71 सीटें जीतने वाली बीजेपी हाथ पर हाथ धरे बैठी रहेगी? इन सवालों पर आने से पहले बात कांग्रेस की कर लेते हैं. कांग्रेस के ज्यादातर नेता यह कह रहे थे कि यूपी में कोई महागठबंधन उन्हें लिए बिना नहीं बन सकता है. लेकिन मायावती ने उन्हें टका सा जवाब दे दिया है. क्या यूपी में 2014 की मोदी लहर में 7.5 परसेंट वोट हासिल करने वाली कांग्रेस को साथ ना लेना राजनीतिक रूप से कितना सही फैसला है? अगर एसपी-बीएसपी के साथ कांग्रेस मिल जाती तो क्या इससे निर्णायक समीकरण नहीं बनता?

इसका जवाब मायावती ने दे दिया है. उनका कहना है कि कांग्रेस के साथ गठबंधन करने पर उनकी पार्टी को कोई खास फायदा नहीं होता क्योंकि कांग्रेस के वोट बीएसपी को ट्रांसफर होने के बदले बीजेपी को चले जाते हैं. मायावती के इस एक जवाब में यूपी का अंकगणित छिपा है. यह सच है कि यूपी में कांग्रेस का परंपरागत वोटर ब्राह्मण जैसी अगड़ी जातियों के लोग हैं. मुसलमान वोटर कांग्रेस के पक्ष तभी वोट डालते हैं, जब उन्हें लगता है कि उसका उम्मीदवार बीजेपी को हराने की स्थिति में है.