उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी|IANS
इलेक्शन बुलेटिन

मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव 2018: कांग्रेस ने देशद्रोह, किसानद्रोह जैसे काम किए : मोदी

मोदी ने कहा कि कांग्रेस सत्ता में आ गई और उनके रागदरबारियों ने बोलना बंद कर दिया, कांग्रेस के काल में टूजी, कोयला, स्पेक्ट्रम जैसे कई बड़े-बड़े घोटाले हुए थे।

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

झाबुआ | प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को कांग्रेस पर झूठे वादे करने का आरोप लगाते हुए कहा कि कर्नाटक में किसानों का कर्ज माफ नहीं हुआ, बल्कि उनके नाम पर गिरफ्तारी के वारंट जारी हो रहे हैं।

मध्य प्रदेश के आगामी विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के उम्मीदवारों के समर्थन में झाबुआ पहुंचे प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, "कर्नाटक में चुनाव से पहले कांग्रेस ने कर्ज माफ करने का वादा किया था। चुनाव के बाद वहां कर्ज माफ होना तो दूर किसानों के नाम पर गिरफ्तारी के वारंट जारी हो रहे हैं। वहां के किसान घर छोड़कर भाग गए हैं। इतना ही नहीं, जब किसान आंदोलन करने सड़क पर उतरे तो उन्हें गुंडा बताया जा रहा है।"

मोदी ने कहा कि कांग्रेस ने वर्ष 2008 में किसानों के कर्ज माफ करने का ऐलान किया था, यह ऐलान वर्ष 2009 के चुनाव से पहले था। चुनाव हुए और सत्ता में आने के बाद कांग्रेस भूल गई। उस समय किसानों पर छह लाख करोड़ का कर्ज था, मगर 60 हजार करोड़ रुपये का भी कर्ज माफ नहीं किया और जो कर्ज माफ किया भी गया, तो वह उनके यार-दोस्तों का था, यह बात सीएजी ने पकड़ी।

मोदी ने कहा, "कांग्रेस ने वर्ष 2008 में भी किसानों के कर्ज माफी का ऐलान किया था, जो वर्ष 2009 के चुनाव से पहले किया गया था। चुनाव हुए और सत्ता में आने के बाद कांग्रेस वादे भूल गई। उस समय किसानों पर छह लाख करोड़ का कर्ज था, लेकिन 60 हजार करोड़ का भी कर्ज माफ नहीं किया गया। कांग्रेस सरकार ने जो कर्ज माफ किया, वह अपने दोस्तों का था, यह बात नियन्त्रक एवं महालेखापरीक्षक (सीएजी) ने भी पकड़ी है।"

मोदी का कहना है, "कांग्रेस के काल में टूजी, कोयला, स्पेक्ट्रम जैसे अनेकों बड़े-बड़े घोटाले हुए थे, इस कारण से किसान कर्ज माफी में हुआ घोटाला खुल नहीं पाया। अब वह घोटाल भी सामने आ रहा है।"

मोदी ने आगे कहा कि कांग्रेस के झूठे वादे, झूठे तरीके देशद्रोह जैसा काम, किसानद्रोह और भविष्यद्रोह जैसा था, जो माफ नहीं किया जा सकता।
आईएएनएस