उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
भारत का पहला वर्ल्ड कप
भारत का पहला वर्ल्ड कप|Google
क्रिकेट

भारत ने इस तरह से जीता था अपना पहला वर्ल्ड कप, छिपा है बेहद ही रोमांचक किस्सा

एक समय 1983 का था जब भारत के खिलाड़ी वर्ल्डकप का मैच खेलने इंग्लैंड पहुंचे थें और आज 44 साल बाद फिर से भारतीय क्रिकेट टीम इंग्लैंड की धरती पर पहुंच चुकी है। 

Puja Kumari

Puja Kumari

हमेशा की तरह इस बार भी वर्ल्ड कप शुरू होने वाला है, जिसपर दुनियाभर के लोगों की नजर टिकी हुई हैं। 30 मई यानि कि कल से वर्ल्ड कप (World Cup 2019) का शुभारंभ हो जाएगा जो कि 1 जुलाई तक चलेगा। बताते चलें कि आईसीसी द्वारा हर चार साल पर क्रिकेट के इस महाकुंभ का आयोजन किया जाता है जिसमें विभिन्न देशों की टीमें शामिल होती है।

आईसीसी वर्ल्ड कप (ICC World Cup 2019) का ये 12 वां संस्करण है जो कि इंग्लैंड और वेल्स में खेला जाने वाला है, यही कारण है कि भारतीय क्रिकेट टीम फिलहाल इंग्लैंड में है। वहीं दूसरी तरफ यह टूर्नामेंट हमारे देश के लिए इसलिए भी खास है क्योंकि भारत ने अपना पहला वर्ल्ड कप (World Cup) मैच सन 1975 में इंग्लैंड में ही खेला था, और अब एक बार फिर 44 साल बाद वो पल वापस आया है। हालांकि इस टूर्नामेंट के दौरान भारत ने जीत हासिल नहीं की थी, बल्कि 5 वें स्थान पर अपना नाम दर्ज कराया था।

भारत ने जीता था पहला वर्ल्ड कप
भारत ने जीता था पहला वर्ल्ड कप
Google

भारत ने जीता था अपना पहला ‘वर्ल्ड कप’

इस वर्ल्ड कप से पहले अगर हम उस दिन को याद करें जब भारत ने अपने नाम पहला वर्ल्ड कप किया था, वो पल हर देशवासी के लिए कितना गौरवशाली रहा होगा। बात है साल 1983 की जब रंगीन टीवी पर हर कोई क्रिकेट देखने का रोमांचक मजा उठा रहा था। उस दौरान इंग्लैंड की धरती पर भारतीय टीम (Indian Cricket Team) ने जो कर दिखाया उससे लोगों का पूरा नजरिया ही बदल गया। क्योंकि इस उपलब्धि के बाद से ही भारत के लोगों के सिर क्रिकेट का नशा ऐसा चढ़ा कि वो अब तक नहीं उतर पाया है।

दरअसल 2 बार वर्ल्ड कप हारने के बाद सन 1983 में कपिल देव (Kapil Dev)की कप्तानी वाली भारतीय टीम ने मानो जीत का सेहरा बांधकर ही मैदान में उतरने की कसम खायी थी। उस दौरान पहली बार भारत की टीम ने वेस्‍टइंडीज को हराकर विश्वकप हासिल किया था।

पहली जीत से जुड़ा ये अनोखा किस्सा

कहा जाता है कि कपिल देव ने इस जीत को हासिल करने के बाद जश्न मनाने के लिए शराब तक उधार ली थी।कपिल देव इस मैच को जीतने के बाद वेस्टइंडिज के ड्रेसिंग रूम में गए, जहां खिलाड़ी अपनी हार को लेकर सन्नाटे में बैठे थे। पर इस दौरान कपिल देव की नजर उनके ड्रेसिंग रूम में रखी शराब की बोतल पर पड़ी जो कि वेस्टइंडिज की मैनेजमेंट कंपनी ने इनिंग ब्रेक के दौरान पहले से मंगाकर रख दी थी क्योंकि उन्हे भारत के जीतने की उम्मीद बिल्कुल भी नहीं थी।

लेकिन हुआ इसके ठीक उल्टा इसलिए उनके यहां उस शैम्पेन का कोई काम नहीं था। इसलिए कपिल देव ने उनसे पूछा कि क्या मैं यहां से कुछ शैम्पेन ले जा सकता हूं। और इस तरह से कपिल देव ने उधार में मांगी हुयी शैम्पेन के साथ इस जीत के जश्न को दोगुना किया।

भारत का पहला वर्ल्ड कप
भारत का पहला वर्ल्ड कप
Google

काफी रोमांचक था फ़ाइनल मुकाबला

पहली बार वर्ल्ड कप के फ़ाइनल मुक़ाबले में पहुंची भारतीय टीम का मुक़ाबला 2 बार की विजेता वेस्टइंडीज से था। पहले से ही कमजोर मानी जाने वाली भारतीय टीम ने पहले बल्लेबाजी करते हुए केवल 183 रन ही बनाए। जिसके बाद तो ऐसा लगा कि एक बार फिर से वेस्टइंडीज, वर्ल्ड कप अपने घर ले जाएगी।

बैटिंग करने उतरे वेस्टइंडीज के खिलाड़ियों ने शुरुआती खेल में काफी मजबूत स्थिति भी बना रखी थी मगर तभी कप्तान कपिल देव की अगुवाई में भारतीय गेंदबाजों ने वो कमाल कर दिखाया जिसकी उम्मीद तक सभी भारतीय समर्थक छोड़ चुके थे। बता दें कि भारतीय गेंदबाजों ने अद्भुत प्रदर्शन करते हुए वेस्टइंडीज को मात्र 140 रन पर समेट कर पहला वर्ल्ड कप खिताब अपने नाम कर लिया।