उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
चीयरलीडर्स की जिंदगी 
चीयरलीडर्स की जिंदगी |Google images
क्रिकेट

इतनी भी आसान नहीं होती चीयरलीडर्स की जॉब, काम के दौरान सहना पड़ता है ये सब 

एक चीयरलीडर को अपनी जॉब के दौरान काफी कुछ सहना पड़ता है जिसके बारे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं

Puja Kumari

Puja Kumari

जैसा कि आप सभी जानते ही हैं कि हमारे देश में हर साल आईपीएल का सीजन चलता है और क्रिकेट प्रेमियों को इस घड़ी का इंतजार बेहद ही ब्रेसब्री से रहता है, ये बात भी सच है कि आजकल आईपीएल का ही सीजन चल रहा है और ऐसे में इससे जुड़ी कई सारी खबरें आ रही हैं, कभी मैच में बनाए गए रनों व क्रिकेटरों की तो कभी इसके बाद की गई मस्ती की, लेकिन आज हम आपको ना ही क्रिकेटर्स के बारे में बताने वाले हैं और ना ही उनसे जुड़ी कोई भी मस्ती के बारे में बल्कि आज हम उनके बारे में बात करने जा रहे हैं जो इस पूरे सीजन में दर्शकों के मनोरंजन को दोगुना कर देती हैं। दरअसल हम बात कर रहे हैं चीयरलीडर्स की, जिनकी चर्चा भले ही कम होती है लेकिन उनका महत्व आईपीएल में बेहद ही ज्यादा होता है।

खास बात तो ये हैं कि कैमरे पर दिख रही ये चीयरलीडर्स दर्शकों का मनोरंजन भले ही करती हो लेकिन इनकी जिंदगी उतनी भी आसान नहीं होती है जितनी देखने में लगती है। जी हां शायद आपको ये बात पता न हो पर एक चीयरलीडर को अपनी जॉब के दौरान काफी कुछ सहना पड़ता है जिसके बारे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं। दरअसल एक चीयरलीडर की जिंदगी उतनी भी आसान नहीं होती है जितना हम सोचते हैं, बल्कि उनको इस काम के लिए काफी कड़ी ट्रेनिंग करती है जिस दौरान उन्हें शारीरिक व मानसिक रूप से भी तैयार होना पड़ता है, तो आइए जानते हैं कि आखिर कैसी होती है चीयरलीडर्स की लाइफस्टाइल...

चीयरलीडर्स की जिंदगी 
चीयरलीडर्स की जिंदगी 
google site

नींद पूरी करने की भी नहीं मिलती है फुर्सत

सबसे पहले तो आपको ये बताते चलें कि आईपीएल के दौरान मैदान पर जैसे ही कोई खिलाड़ी अच्छा प्रदर्शन करता है तो चीयरलीडर्स उन्हें प्रोत्साहित करती हैं और इसके लिए वो डांस भी करती हैं, ये सिलसिला तब तक चलता रहता है जब तक मैच न खत्म हो जाए। इतना ही नहीं बता दें कि दिन में मैच के दौरान इतना कुछ करने के बाद वो पूरी रात जागकर अगले मैच के लिए भी खुद को तैयार करती हैं और इस दौरान वो अपने डांस की प्रैक्टिस करती हैं जिसकी वजह से उनको सोने तक की फुर्सत नहीं मिल पाती है।

दी जाती है कड़ी ट्रेनिंग

एक चीयरलीडर्स को अच्छी परफॉर्मेंस देने के लिए उनको कई तरह की कठिन एक्सरसाइज करनी पड़ती है जिससे उनकी पूरी बॉडी फ्लेक्सिबल बनी रहे, यही कारण है कि ये जिम में कई घंटों तक एक्सरसाइज कर पसीना बहाती है और तब जाकर ये मैदान में अच्छा से परफॉर्म कर पाती हैं।

चीयरलीडर्स की जिंदगी 
चीयरलीडर्स की जिंदगी 
google site

इतनी होती है सैलरी

अब बारी आती है इनके सैलरी की तो आपको यकीन नहीं होगा इतनी कड़ी मेहनत करने के बावजूद भी इनको सैलरी के तौर पर 6 से 12 हजार रूपए प्रति मैच दिए जाते हैं और अगर टीम जीत जाती है तो इन्हें बोनस के तौर पर 3 हजार रूपए भी मिलते हैं जो कि कुछ ज्यादा नहीं है लेकिन फिर भी चीयरलीडर्स अपने काम को अच्छी तरह से करती हैं। इसके अलावा बताते चलें कि कई बार एजेंसियों की तरफ से भी चीयरलीडर्स को आईपीएल मैच में भेजा जाता है और ऐसे में अपनी कमाई का कुछ हिस्सा चीयरलीडर्स को उन एजेंसियों को देना पड़ता है जिससे उनकी सैलरी और कम हो जाती है।