उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
Bollywood Movies
Bollywood Movies|Social Media
बॉलीवुड बुलेटिन

बॉलीवुड की वो पांच बड़ी फिल्में जो समाज का आईना हैं 

समाज पर गहरी छाप छोड़ती बॉलीवुड फिल्म 

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

बॉलीवुड में फिल्म मेकिंग का अपना एक अलग इतिहास है, और वो इतिहास काफी रोचक भी है। हर फिल्म की अपनी एक अलग कहानी होती है जो अलग-अलग तरीके से दर्शकों पर अपना प्रभाव छोड़ती है, दर्शकों को खुद से जोड़ती है। लेकिन कुछ फिल्में ऐसी भी होती है जो हमारे समाज और युवा वर्ग पर एक गहरी छाप छोड़ जाती है।

आइये आज हम कुछ ऐसे फिल्मों की बात करते हैं जिन्होंने भारतीय दर्शकों पर अपना प्रभाव छोड़ा है -

मातृभूमि: अ नेशन विथाउट वुमन

मातृभूमि: अ नेशन विथाउट वुमन
मातृभूमि: अ नेशन विथाउट वुमन
Social Media

मातृभूमि: अ नेशन विथाउट वुमन फिल्म 2003 में रिलीज़ हुई थी। इस फिल्म का निर्देशन मनीष झा ने किया था। इस फिल्म में सुशांत सिंह, पियूष मिश्रा, तुलिप जोशी, सुधीर पांडेय और मनीष झा मुख्य किरदार में थे। यह फिल्म महिला शिशु हत्या व घटती महिलाओं की संख्या के मुद्दे पर प्रकाश डालती है। यह फिल्म बताती है कि जब समाज महिला विहीन होगा तो समाज की स्थिति क्या होगी। इस फिल्म में एक ऐसे गांव को दिखाया गया है जहां केवल पुरुष ही है।

लगान

लगान
लगान
Social Media

साल 2001 में बनी फिल्म लगान इतिहास के पन्नों से खोज कर बनाई गई एक ऐसी फिल्म है जो आजादी के संघर्ष में गुमनाम हुए कुछ नायकों की अनसुनी कहानी बताती है। इस फिल्म को दुनियाभर में सराहा गया। इस फिल्म ने आमिर खान और ग्रेसी सिंह को बॉलीवुड की वो ऊंचाई दी जिसे आज तक कोई छू नहीं पाया है। इस फिल्म को ऑस्‍कर की फॉरेन लेंग्‍वेज कैटगरी में बेस्‍ट फिल्‍म के लिए नॉमिनेशन भी मिला था। इस फिल्म का निर्देशन आशुतोष गोवारिकर ने किया था।

पिंक

पिंक 
पिंक 
Social Media

अनिरुद्ध रॉय चौधरी द्वारा निर्देशत फिल्म पिंक हमारे समाज में महिलाओं की स्थिति के बारे में बताती है। हमारे देश में ना जाने कब से महिलाओं के साथ बलात्कार हो रहा है, लेकिन महिलाएं चुप-चाप सारे जुर्म सहती आ रही है। फिल्म पिंक के जरिये अनिरुद्ध रॉय चौधरी ने समाज को संदेश देने की कोशिश की है कि लड़कियों को अपने साथ हुए छेड़छाड़, हिंसा के खिलाफ बोलना चाहिए आवाज उठाना चाहिए।

अलीगढ़

अलीगढ़
अलीगढ़
Social Media

हंसल मेहता द्वारा निर्देशत फिल्म अलीगढ़ साल 2016 में रिलीज़ हुई थी। इस फिल्म में मनोज बाजपई, राजकुमार राव और आशीष विद्यार्थी मुख्य किरदार में हैं। इस फिल्म में शिक्षक श्रीनिवास रामचन्द्र सिरस (मनोज बाजपई) के जीवन को दर्शाया गया है जो समलैंगिक है। समलैंगिक होने के करण सिरस को नौकरी से निकाल दिया जाता है। यह फिल्म समाज के दोहरे रवैये को दर्शाती है।

लिपस्टिक अंडर माय बुरखा

लिपस्टिक अंडर माय बुरखा
लिपस्टिक अंडर माय बुरखा
Social Media

अलंकृता श्रीवास्तवा द्वारा निर्देशत फिल्म लिपस्टिक अंडर माय बुरखा समाज की सभी रूढ़िवादी परंपरा को तोड़ने वाली फिल्म है। इस फिल्म में चार महिलाओं की ज़िंदगी को दिखाया गया है जिनकी अपनी यौन इच्छाएं हैं। यह भारत की पहली ब्लैक कॉमेडी फिल्म है। इस फिल्म में रत्ना पाठक, कोंकणा सेन शर्मा, प्लाबिता बोरठाकुर ने शानदार भूमिका निभाई है। यह फिल्म समाज को एक मजबूत संदेश देती है।