उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
भोजपुरी  सुपरस्टार पवन सिंह
भोजपुरी  सुपरस्टार पवन सिंह|google images
बॉलीवुड बुलेटिन

पवन सिंह यूँ ही रातों रात सुपरस्टार नहीं बन गए...

बिहार के गांव के एक लड़के की आवाज़ ने, पहले तो बिहार को झुमाया , झारखण्ड को नचाया साथ ही उत्तर प्रदेश को अपना दीवाना बनाया

Divyanshu Singh

Divyanshu Singh

Summary

जोकहरी “भोजपुर” जिला(आरा) का एक छोटा सा गांव, जिसे 1997 से पहले शायद ही कोई जानता था | मगर सन १९९७ में इसी गांव के एक लड़के की आवाज़ ने पहले तो बिहार को झुमाया , झारखण्ड को नचाया साथ ही उत्तर प्रदेश को अपना दीवाना बनाया और अपने गांव के साथ साथ अपने शहर आरा को एक पहचान दिलाई और आज के आलम ये है कि जोकहरी या आरा बोलने भर से उसी के चेहरा याद आता है ,वो लड़का कोई और नहीं बल्कि, भोजपुरिया सुपरस्टार या यूँ कह लीजिये भोजपुरिया राजा एक्टर सिंगर “पवन सिंह “ है |

पवन सिंह यूँ ही रातों रात सुपरस्टार नहीं बन गए , बहुत कम ही लोग जानते हैं कि अपने शुरुवाती दिनों में चाचा एवं गुरु अजित सिंह के साथ घर के सामने वाले पाकड़ के पेड़ के निचे सुबह कि पहली किरण के साथ रोज रियाज़ किया करते थे ,प्रकृति कि गोद में बैठ कर रोज रियाज़ और चाचा अजित सिंह के मार्गदर्शन का ही फल था जो सन १९९७ में उनका पहला एल्बम " ओढनिया वाली " आया जिससे पवन सिंह को भोजपुरी सिंगर के तौर पर पहचान दिलाई ! तब से लेकर आज तक उन्होंने पीछे मुड़कर नहीं देखा और अनगिनती गानों को अपनी आवाज़ दी और समय के साथ उनकी लोकप्रियता बढ़ती ही गयी ,इसका अंदाज़ा सिर्फ इसी बात से लगाया जा सकता है कि उनका हर नया गाना कुछ घंटो में ही यूट्यूब पर मिलियन में घुस जाता है | " लॉलीपॉप " गाना से उन्हें ना सिर्फ भारत बल्कि इंटरनेशनल लेवल पर पहचान मिली मगर शुरुवात तो उन्होंने "जालीदार कुर्ती " से ही कर दी थी |

शुरुवाती दौर में शर्मीले से पवन सिंह , आज जब स्टेज पर आते हैं तो पब्लिक दीवानी हो जाती है और वो बिंदास उनका मनोरंजन करते हैं |

भोजपुरी इंडस्ट्री में एक सिंगर के रूप में पहचान बनाने के बाद सन २००७ में अपनी दूसरी पारी कि शुरुवात करते हुए कदम रखा एक्टिंग में "रंगली चुनरिया तोहरे नाम " से , तब से लेकर आज तक उन्होंने ७७ से भी ज्यादा फिल्मो में एक्टिंग कि, और यह आज जारी है |

बिहार का वो देसीपन पवन सिंह आजतक नहीं भूले और यही कारण है कि लोग उन्हें बेहद पसंद करने के साथ साथ खुद को उनसे जुड़ा हुआ महसूस करते हैं ,इसका जीता जागता उदाहरण आपको बिहार , झारखण्ड उत्तर प्रदेश के किसी भी जिले में मिल जायेगा ,वहाँ शादी हो या कोई भी जश्न का मौहाल, आपको पवन सिंह के गाने बजते सुनाई पड़ जायेंगे और तो और वहाँ के टेम्पू (ऑटो) में पवन सिंह का पोस्टर साइज़ फोटो मिल ही जायेगा |