उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
Main Gate 
Main Gate |Source- Google 
वास्तु

घर का मुख्य द्वार बाहर की तरफ खुले तो क्या होगा परिणाम, जानें

अगर घर का प्रमुख द्वार घर के बाहर की ओर खुलता है ,तो परिवार के लोगों को भयंकर बीमारियों का सामना करना पड़ता हैं, साथ ही घर में सदैव नकारात्मकता बानी रहता है

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

वास्तुशास्त्र के अनुसार घर की खुशियाँ घर के बनावट पर निर्भर करतीं हैं। अगर घर का प्रमुख द्वार बाहर की ओर खुलता हो ,तो वह वास्तु की नजर से शुभ नहीं माना जाता है, उस घर के लोग सदैव मानसिक पीड़ा से ग्रस्त रहतें हैं और बीमारियाँ उस घर में डेरा जमायें बैठीं होती हैं। घर के लोगों को शाररिक, मानसिक और आर्थिक रूप से परेशानी का सामना करना पड़ सकता हैं।

वास्तु शास्त्र के ग्रंथो में घर के प्रमुख मार्ग से जुडी कई बातें बताई गई हैं, जिसका ध्यान रखने से घर में शांति बनी रहती हैं, साथ ही बीमारियों, टेंशन व अन्य फ़िजूल खर्चो से छुट्टी मिल जाती हैं । आज हम आपको वास्तु से जुड़े कुछ नियम बताने जा रहें हैं, जिनकी वजह से घर में गरीबी से मुक्ति मिल सकती हैं-

  • वास्तु के अनुसार घर का मुख्य दरवाजा लकड़ी की होनी चाहिए तथा सदैव अंदर के तरफ खुलना चाहिए । बाहर की तरफ खुलने वाले दरवाजे मकान मालिक के दुखों का कारण बन सकते हैं । धातु के दरवाजे से माकन मालिक को धोखा भी मिलने की उम्मीद हैं ।
  • घर का मुख्य द्वार घर के अन्य सभी दरवाजों से बड़ा होना चाहिए, मुख्य दरवाजें का छोटा होना, आर्थिक संकट का कारन बन सकता हैं।
  • सूर्योदय व सूर्यास्त के समय घर के खिड़कियाँ खुली होनी चाहिए । जिससे घर में सकारात्मक ऊर्जा का प्रवेश हो सके । इस समय खिड़कियों के बंद होने से लोगों को स्वास्थ्य सम्बन्धी परेशानियों का सामना करना पड़ेगा।
  • घर के किसी भी दरवाजे के पीछे कोई भी धातु की धारदार वस्तु नहीं होनी चाहिए । इसके कारण परिवार में तनाव बढ़ता है।
  • घर के किसी भी बाथरूम में वॉश बेसिन नहीं होनी चाहिए । ऐसा होने से पति पत्नी के जीवन में भरोसे कि कमी आती है। अगर वॉश बेसिन हो तो उस स्थान पर पर्दा ज़रूर लगा कर रखना चाहिए ।